प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए गुजरात में हो रही इन्वेस्टर सम्मिट में शामिल होते हुए नेशनल ऑटोमोबाइल स्क्रैपेज पॉलिसी लांच की, जिसका ऐलान इस साल बजट में किया गया था। प्रधानमंत्री ने इस पॉलिसी के फायदे गिनाते हुए बताया कि अब गाडि़यों को उनकी उम्र देखकर नहीं, बल्कि फिटनेस टेस्ट में अनफिट होने पर स्क्रैप किया जाएगा।

यानी अगर गाड़ी को 15 साल नहीं हुए हैं, लेकिन वह चलाने में अनफिट है, तब भी उसे स्क्रैप किया जा सकता है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पुरानी गाड़ी को स्क्रैप कराने पर सर्टिफिकेट मिलेगा। नई गाड़ी खरीदते समय अगर यह सर्टिफिकेट दिखाएंगे, तो रजिस्ट्रेशन पर पैसा नहीं देना होगा। साथ ही रोड टैक्स में कुछ छूट दी जाएगी।

 नई कार से मेंटेनेंस में बचत होगी और रोड एक्सीडेंट का खतरा टलेगा। पुरानी गाडि़यों से होने वाले प्रदूषण से स्वास्थ भी बेहतर होगा। दरअसल, इस पॉलिसी के तहत कमर्शियल गाडि़यों को 15 साल और प्राइवेट व्हीकल को 20 साल बाद कबाड़ किया जाएगा।

हालांकि, नए नियम के चलते अब गाड़ी की उम्र देखकर ही स्क्रैप नहीं किया जाएगा, बल्कि फिटनेस टेस्ट में अनफिट होने पर भी स्क्रैप किया जाएगा। इस पॉलिसी की तहत कार मालिकों को कैश तो मिलेगा ही, सरकार की तरफ  से नई कार खरीदने पर सबसिडी भी मिलेगी।

error: Content is protected !!