व्हाइट फंगस से फूड पाइप और आंतों में छेद, दिल्ली में सामने आया रोंगटे खड़े कर देने वाला मामला

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली स्थित सर गंगाराम अस्पताल में व्हाइट फंगस का ऐसा मामला आया है, जो रोंगटे खड़े कर देने वाला है। अस्पताल की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार मरीज पहले से कोविड संक्रमित थीं। संक्रमण के बाद उनके फूड पाइप, छोटी आंत और बड़ी आंत में छेद हो गए। जांच में पता चला कि इन दिक्कतों की असल वजह व्हाइट फंगस है।

डाक्टरों की एक टीम ने चार घंटे की सर्जरी के बाद छेद बंद किए। इसके बाद मरीज का एंटी फंगल इलाज शुरू हुआ। अस्पताल के डिपार्टमेंट ऑफ सर्जिकल गैस्ट्रोएंटरोलॉजी एड सीवर ट्रांसप्लांटेशन की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में जानकारी दी गई कि 49 साल की महिला 13 मई, 2021 को सर गंगाराम अस्पताल के एमर्जेंसी में लाई गईं।

उनके पेट में असहनीय दर्द था और वह उल्टियों के साथ कब्ज से पीडि़त थीं। एडमिशन के समय महिला शॉक में थी और सांस लेने में उन्हें काफी कठिनाई हो रही थी। सीटी स्कैन करने पर मरीज के पेट में हवा और लिक्विड का एहसास हुआ, जो कि आंतों में छेद की निशानी है। अस्पताल के बयान के अनुसार डाक्टर अनिल अरोड़ा ने बताया मरीज की हालत काफी नाजुक थी।

हमने तुरंत उनके पेट में पाइप से करीब एक लीटर पस एवं बाइल लिक्विड निकाला। उन्होंने बताया कि उसके बाद एमर्जेंसी सर्जरी के लिए डाक्टर समीरन की अगवाई में बनी टीम द्वारा आपरेशन किया गया।

डाक्टर समीरन नंदी ने कहा कि चार घंटे चली इस मुश्किल सर्जरी में हमने महिला की फूड पाइप छोटी आंत और बड़ी आंत में हुए छेदों को बंद कर दिया एवं लिक्विड लीक को रोक दिया। छोटी आंत में हुए गैंगरीन को भी काटकर निकाल दिया गया। इसके एक टुकड़े को बायोप्सी के लिए भेज दिया।

यूं चला पता

बयान के मुताबिक डा. अरोड़ा ने बताया कि आपरेशन के बाद आंत से निकाले गए टुकड़ों की बायोप्सी से हमें पता चला कि आंतों में व्हाइट फंगस है। इसकी वजह से आंतों के भीतर फोड़े हो गए और इससे छेद भी हुए।  मरीज के कोविड-19 एंटीबॉडी लेवल बढ़े थे। ब्लड टेस्ट के व्हाइट फंगस का लेवल भी बढ़ा हुआ मिला। उन्होंने कहा कि एंटीफंगल ट्रीटमेंट से मरीज को आराम मिला।

White fungus pierces the food pipe and intestines, a case of standing up in Delhi

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!