लंबे इंतजार के बाद पहली सितंबर से कालेजों में छात्रों की रौनक लौट आएगी। सरकार ने ऑफलाइन कक्षाएं शुरू करने के आदेश जारी कर दिए है। यानी पहली सितंबर से कालेजों में अब प्रथम, द्वितीय व तृतीय वर्ष के डेढ़ लाख से ज्यादा छात्रों की फिजिकली कक्षाएं लगेंगी।

 

अहम यह है कि  शिक्षा सचिव राजीव शर्मा ने इस बाबत गुरुवार को शिक्षा विभाग को एक पत्र जारी कर दिया। इस पत्र के माध्यम से विभाग को आदेश दिए गए हैं कि वह कालेज पिं्रसीपल को कोविड प्रोटोकोल के बारे में बताएं। बता दे क कालेजों में कक्षाएं तो शुरू हो रही हैं, लेकिन क्लासरूम में 50 प्रतिशत क्षमता के साथ ही छात्रों को बैठाया जाएगा।

 सरकार की ओर से जारी हुई अधिसूचना में साफ किया गया है कि कालेज के एंट्री व एग्जिट गेट पर थर्मल स्कैनर, सेनेटाइजर की सुविधा मुहैया होनी चाहिए। इसके साथ ही छात्रों को मास्क के साथ ही कालेज में एंट्री मिलेगी। बता दें कि कालेजों में 17 अगस्त से ऑनलाइन कक्षाएं शुरू हो चुकी है। इसके साथ ही फर्स्ट ईयर के छात्रों की बात करें तो 31 अगस्त तक दाखिले की अंतिम तिथि है। यही वजह है कि अब सरकार ने फैसला लिया है कि दाखिले की प्रक्रिया पूरी होते ही नया सत्र कालेजों में शुरू कर दिया जाएगा।

 

तीसरी लहर फिर लगा सकती है ग्रहण

सरकार ने कालेजों में ऑफलाइन कक्षाएं लगाने के आदेश जारी तो कर दिए हैं, लेकिन तीसरी लहर का खतरा अब भी है। ऐसे में सरकार को डर है कि अगले कुछ महीनों में तीसरी लहर आती है, तो कालेज की शिक्षा पर फिर से ग्रहण लग सकता है।

80 प्रतिशत छात्रों को लग चुकी है वैक्सीन

सरकार के लिए कालेज खोलना इस वजह से भी आसान है, क्योंकि 80 प्रतिशत कालेज छात्रों को वैक्सीन लग चुकी है। ऐसे में 18 साल से ज्यादा के जिन छात्रों को टीका लग चुका है, उन्हें संक्रमण का खतरा कम है।

error: Content is protected !!