छात्रवृत्ति घोटाला : CBI ने 9 शिक्षण संस्थानों के खिलाफ अदालत में दायर की चार्जशीट

265 करोड़ से अधिक के छात्रवृत्ति घोटाले में सीबीआई ने तीसरी चार्जशीट अदालत में दायर की है। इसके तहत प्रदेश में 9 फर्जी शिक्षण संस्थान चलाने वाले 3 पार्टनरों के साथ ही घोटाले को अंजाम देने में सहयोग करने वाले विभिन्न बैंकों के 5 और शिक्षण संस्थानों के 4 मुलाजिमों को नामजद किया गया है।

आरोप है कि 9 शिक्षण संस्थानों को फर्जी तरीके से खोलकर आरोपियों ने करीब 8800 छात्रों के नाम पर 30 करोड़ से अधिक की छात्रवृत्ति को हड़पा। इनमेंं 4 संस्थान नाहन, ऊना, कांगड़ा और चम्बा में स्किल डिवैल्पमैंट नामक सोसायटी के नाम से चलाए जा रहे थे। इसी तरह जिला कांगड़ा के तहत एक आईटीआई और अन्य स्थानों पर नाइलेट के नाम से 4 शिक्षण संस्थान खोले गए थे। इनके 8 शिक्षण संस्थानों को करीब 29.80 करोड़ और 1 आईटीआई को करीब 50 लाख रुपए जारी हुए थे।

4 से 5 वर्ष में ही हड़प ली 30 करोड़ से अधिक की छात्रवृत्ति

सूत्रों के अनुसार फर्जी संस्थानों के माध्यम से शातिरों ने सिस्टम की आखों में ऐसी धूल झोंकी कि 4 से 5 वर्ष में ही 30 करोड़ से अधिक की छात्रवृत्ति हड़प ली गई। जांच में पाया गया है कि छात्रवृत्ति हड़पने के लिए फर्जी दस्तावेजों के आधार पर विभिन्न सरकारी योजनाओं के तहत विद्यार्थियों को मिलने वाली छात्रवृत्ति के लिए क्लेम किया जाता था। छात्रवृत्ति की राशि हड़पने के लिए फर्जी तरीके से छात्रों के बैंक खाते खोले गए और करोड़ों की धनराशि हड़पी गई। वर्ष 2013 से 17 के बीच में इस घोटाले को अंजाम दिया गया। जांच में सीबीआई के समक्ष कई तथ्य उभर कर सामने आए हैं।

2 चार्जशीट की जा चुकी हैं दायर

छात्रवृत्ति घोटाले में 25 से 27 निजी संस्थान जांच के दायरे में हैं। इसके तहत के.सी. गु्रप ऑफ  इंस्टीच्यूट के 2 संस्थानों से जुड़े मामले में पहले ही चालान पेश हो चुका है। इसी तरह तीसरे मामले के तहत अब 9 संस्थान से जुड़े मामले में एक ही चार्जशीट दायर की गई है। बताया गया है कि अन्य संस्थानों से जुड़े मामलों में तथ्य आने पर अलग-अलग चार्जशीट दायर होंगी।

Leave a Reply

Top