सोमवार से सरकार का विरोध करेेंगे Private bus operators, जानिए क्या है मांगे

HP Private bus operators: हिमाचल प्रदेश निजी बस ऑपरेटर संघ सोमवार से प्रदेश सरकार का विरोध करेगा। संघ का कहना है कि लंबे समय से निजी बस आॅपरेटर संघ सरकार से अपनी मांगों को पूर्ण करने के लिए बोल रहा है, परंतु सरकार कोई कार्रवाई नहीं कर रही है।

इसी कारण सोमवार से प्रदेश में चलने वाली सभी निजी बसों में काले झंडे लगाकर सरकार का शांतिपूर्वक विरोध करेंगे। उसके बाद 24 मार्च को सभी जिला की यूनियन डीसी के माध्यम से सरकार को ज्ञापन देगी,

HP Private bus operators

अगर 29 मार्च से पहले पहले सरकार द्वारा निजी बस ऑपरेटरों को बातचीत के लिए नहीं बुलाया तथा निजी बस ऑपरेटरों की मांगों पर कोई फैसला नहीं लिया गया तो प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे जिसमें कि धरना, प्रदर्शन, भूख हड़ताल, आत्मदाह तथा चक्का जाम करने जैसा फैसला भी लिया जा सकता है।

HP Private bus operators
HP Private bus operators

प्रदेश निजी बस ऑपरेटर संघ की एक बैठक वर्चुअल माध्यम से प्रधान राजेश पराशर की अध्यक्षता में संपन्न हुई, जिसमें 273 लोगों ने भाग लिया । इसमें सभी जिला के पदाधिकारी भी शामिल थे, बैठक में सरकार द्वारा निजी बस ऑपरेटर को कोई राहत ना दिए जाने बारे चर्चा हुई जिसमें कि टेक्स माफी एवं वर्किंग कैपिटल मुख्य मुद्दा रहा।

सर्वसम्मति यह प्रस्ताव पारित किया गया कि निजी बस ऑपरेटरों के कई प्रतिनिधिमंडल कई बार सीएम एवं परिवहन मंत्री से मिले लेकिन मात्र आश्वासन के अलावा कोई भी कार्रवाई उनकी मांगों पर नहीं हुई। इसलिए सर्वसम्मति से शांति पूर्वक विरोध करने का फैसला किया गया।

HP Private bus operators
 Private bus 

गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर पिछले 7 महीने से 30 मार्च 2021 तक टैक्स माफी की मांग कर रहे हैं लेकिन सरकार द्वारा बार-बार आश्वासन दिया जा रहा है। इसके अतिरिक्त सरकार द्वारा कैबिनेट में यह प्रस्ताव पारित किया गया था कि हिमाचल प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर को प्रति बस दो लाख रूपये की राशि कार्यशील पूंजी के रूप में दी जाएगी ।

जबकि फ्लीट और न कोई हो राशि बीस लाख रुपए दी जानी थी लेकिन सरकार द्वारा कैबिनेट में पारित किए गए इस प्रस्ताव पर भी अमलीजामा अभी तक नहीं पहनाया गया है जबकि वर्किंग कैपिटल वाला मुद्दा होटल एसोसिएशन के साथ लगाया गया था 

होटल मालिक को तो यह राशि कार्यशील पूंजी के रूप में जारी कर दी गई है लेकिन निजी बस ऑपरेटर अभी भी इसका इंतजार कर रहे है और प्रदेश सरकार द्वारा अभी तक इस पर कोई फैसला नहीं लिया क्या है।

आज हुई वर्चुअल बैठक में हिमाचल प्रदेश निजी बस ऑपरेटर संघ के प्रदेश महासचिव रमेश कमल, उपाध्यक्ष वीरेंद्र गुलेरिया, सचिव कुलबीर गिल, अमित चड्ढा, हिमालयन बस ऑपरेटर यूनियन शिमला के प्रधान वीरेंद्र कंवर, पूर्व प्रधान जय गोपाल राजटा, जय मां भीमा काली निजी बस ऑपरेटर यूनियन रामपुर के प्रधान मनीष शर्मा,महासचिव राकेश छोलटा,

जिला कांगड़ा के प्रधान रवि दत्त शर्मा, मुन्ना वालिया, निपुण गलोढा, मनमोहन बेदी, अजय परिहार, चंबा जिला के प्रधान रवि दत्त शर्मा, सिरमौर जिला के प्रधान मामराज शर्मा, अखिल शर्मा, बलविंदर, जिला मंडी के चेयरमैन गुलशन कुमार, अरविन्द चैहान, हमीरपुर से राजकुमार, मनोज कुमार, भारत भूषण शर्मा, ऊना से रामकिशन, सोलन से मनदीप ढल, नालागढ़ से मनोज राणा, बिलासपुर के प्रधान राजेश पटिआल,महासचिव राहुल चैहान, कुल्लू से रजत ठाकुर, रोहड़ू यूनियन के प्रधान राजू नाहटा सहित कई पदाधिकारियों ने भाग लिया।

लोकतंत्र प्रहरी सम्मान कार्यक्रम : मुख्यमंत्री ने आपातकाल के समय जेल गए लोगों को किया सम्मानित

New guidelines : कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए हिमाचल सरकार ने लगाईं बंदिशें, जारी किए नए दिशा-निर्देश

WWW.NEXTEXAM.ONLINE

Leave a Reply

Top