कोरोना : नर्सों से नहीं मिल सकेंगे पेरेंट्स, संस्थानों में बढ़ते मामले देख सरकार ने एंट्री पर लगाई रोक

कोरोना के बढ़ते मामले देखते हुए सरकार ने सरकारी और गैर सरकारी नर्सिंग संस्थान में प्रशिक्षु नर्सों के परिजनों की एंट्री पर रोक लगा दी है। कक्षा समाप्त होने के बाद नर्सें सीधे होस्टल जाएंगी। परिजनों को कैंपस में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। स्वागत कक्ष से ही परिजनों से बात की जा सकेगी। मेडिकल कालेज में नर्सों में ज्यादा संक्रमित होने को लेकर सरकार ने यह निर्णय लिया है।

कोरोना

एहतियात के तौर पर प्रदेश सरकार ने यह व्यवस्था की है। जब मामले कम होंगे और स्थिति सामान्य होंगी, तो ये बंदिशें हटा दी जाएंगी।

 

हिमाचल में 60 के करीब नर्सिंग संस्थान हैं। इंदिरा गांधी मेडिकल कालेज नर्सिंग संस्थान के अलावा जिला सिरमौर और ऊना में प्रशिक्षु नर्सें पाजिटिव आए हैं। जिला सिरमौर के नर्सिंग संस्थान में इन प्रशिक्षु नर्सों की संख्या 100 से अधिक रही है।

सरकार ने चिकित्सा संस्थानों को निर्देश जारी किए हैं कि वे कक्षाओं में सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखें। इसके साथ ही टे्रनर और प्रशिक्षु नर्सें मास्क लगाकर कक्षाओं में बैठेंगी। सेनेटाइजर की व्यवस्था करने को कहा गया है। किसी को भी कोरोना के लक्षण पाए जाने पर डाक्टर को सूचित करने को कहा है।

स्वास्थ्य सचिव अमिताभ अवस्थी ने बताया कि कोरोना के मामले बढ़ रहे है। बाहर से आने वाले किसी को भी प्रशिक्षु नर्सों से नहीं मिल सकते हैं। कोरोना कंट्रोल में आने के बाद मिलने की अनुमति दी जाएगी।

Leave a Reply

Top