कोविड ड्यूटी में भेदभाव पर भड़की नर्सें, प्रदेश ऑल पैरामेडिकल स्टाफ नर्सिंग आफिसर एसोसिएशन ने उठाए सवाल

हिमाचल प्रदेश की ऑल पैरामेडिकल स्टाफ नर्सिंग आफिसर एसोसिएशन कोविड सेंटर में स्टाफ नर्स की ड्यूटी लगाने में अनियमितताएं बरते जाने का आरोप जड़ा है। इस संबंध में सोमवार को एसोसिएशन ने की जिला प्रेस सचिव विजयलक्ष्मी की अगवाई में उच्चाधिकारियों को ज्ञापन पत्र देकर इस अनियमितता को दूर करने की मांग उठाई है।

विजय लक्ष्मी ने कहा कि वर्तमान परिस्थिति के मुताबिक जिला में बने तमाम कोविड केयर अस्पतालों में ब्लॉक स्तर के अस्पतालों से स्टाफ नर्सों की ड्यूटी लगाई जा रही हैं। सात दिन के लिए लगाई जाने वाली इन ड्यूटी में सभी नर्सेज दूर-दूर से आकर सेवाएं प्रदान कर रही है।

उन्होंने कहा कि इन केंद्रों में कुछ अन्य साथी नर्सों को उन्होंने ड्यूटी देते हुए कभी नहीं देखा, जिससे यह साबित होता है कि इस काम के लिए चुनिंदा नर्सों को ही लगाया जा रहा है। वहीं इन नर्सों पर लगातार ड्यूटी देने के लिए भी दबाव बना हुआ है।

उन्होंने कहा कि महामारी के दौरान जितने भी जिला ब्लॉक या प्राइमरी स्तर के स्वास्थ्य केंद्र और अस्पताल हैं, उन सभी से रोस्टर के आधार पर समान सेवाएं लेना सुनिश्चित किया जाए। स्वास्थ्य विभाग की इस कार्यप्रणाली के चलते लगातार ड्यूटी में लगी स्टाफ नर्स मानसिक परेशानियों से जूझ रही हैं। 

इस अवसर पर अनुपमा शर्मा, ममता पराशर, प्रियंका, अमनप्रीत, मोनिका शर्मा, बलवीर कौर, पूजा ठाकुर, नीलम, बबिता शर्मा, पूनम व अंजु सहित अन्य उपस्थित रहे।

चौंतड़ा में कोरोना का शिकार बने दंपति

चौंतड़ा। चौंतड़ा के साथ सटी ग्राम पंचायत भड़याडा गांव बसाहल में एक परिवार पर कोविड का कहर बरपा है। परिवार के दोनों मुखिया कोरोना की चपेट में आकर स्वर्ग सिधार गए हैं। बसाहल की संगीता देवी की अचानक तबीयत बिगड़ने व ऑक्सीजन की कमी के चलते जोगिंद्रनगर ले जाया गया, जहां उसने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। इसके उपरांत प्यार चंद की भी नैरचौक मेडिकल कालेज में इलाज के दौरान मौत हो गई।

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!