कोरोना से हुई मौत के प्रमाणपत्र लेने के लिए अस्पतालों में मृतकों के परिजनों को नहीं भटकना पड़ेगा। आईजीएमसी ने मृत्यु प्रमाण पत्र लेने के लिए प्रक्रिया सरल बनाई है। अस्पताल प्रबंधन ने शुक्रवार को इसको लेकर एक विशेष कमेटी का गठन किया है।

कमेटी में डॉ. बलबीर वर्मा, डॉ. सुनील शर्मा नोडल अफसर और असिस्टेंट नोडल ऑफिसर का जिम्मा डॉ. राहुल गुप्ता को दिया गया है। आईजीएमसी के एमएस डॉ. जनकराज की ओर से इस कमेटी का गठन किया गया है। 

सरकार ने कोरोना से मरने वाले के परिजनों को 50 हजार की मदद देने की घोषणा की है। मृतकों के परिजनों को आवेदन करने से पहले दस्तावेजों को लेकर समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। उन्हें किसी भी तरह की समस्या पेश न आए इसके लिए तीन सदस्यीय डॉक्टरों की विशेष कमेटी बनाई है।

ये कमेटी आवेदकों को रेडीमेट एप्लीकेशन भी उपलब्ध करवाएगा। इसके अलावा मृतकों के परिजनों को अगर मौत का सर्टिफिकेट, डेथ की पूरी जानकारी और कोविड टेस्ट रिपोर्ट की जांच रिपोर्ट भी उपलब्ध करवाई जाएगी। 

Follow Facebook Page

शिक्षा विभाग: हिमाचल में सरकारी स्कूलों के विद्यार्थी सीखेंगे आर्टिफिशयल इंटेलिजेंस

हिमाचल उपचुनाव: जयराम सरकार की अग्निपरीक्षा, कांग्रेस को संजीवनी की आस

 

error: Content is protected !!