प्रदेश व्यापार मंडल के सह-कोषाध्यक्ष व प्रभारी बीबीएन संजीव कौशल ने कहा कि कोरोना कर्फ्यू में व्यापारी वर्ग हर संभव सहयोग सरकार को दे रहे है। लेकिन प्रदेश की कैबिनेट ने जिस प्रकार से लॉकडाउन को आगे बढ़ाने का फैसला किया और उसमें सभी व्यापारियों में रोष व्याप्त है। वहीं, प्रदेश के अन्य प्रमुख व्यापारियों ने कहा कि हमने सरकार तक अपनी बात पहुंचाई थी, लेकिन सरकार ने मनमाना निर्णय किया है।

कोरोना संकट में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का प्रदेशवासियों से आग्रह

कारोबारियों ने कहा कि इस समय चाहिए यह था कि सभी व्यापारियों को दुकानें खोलने का अवसर कुछ अवधि के लिए दिया जाना चाहिए था, ताकि सब अपना-अपना कारोबार कर सके। उन्होंने कहा कि कोरोना के नियमों को मानने में हम सब पूरी तरह से आगे रहकर के काम कर रहे हैं। सरकार को सहयोग भी कर रहे हैं, लेकिन हालत यह है कि अनेक व्यापारियों को दिक्कतों का सामना भी करना पड़ रहा है।

 

व्यापारियों ने कहा कि हम तो इस पक्ष के हैं कि सब खुले चाहे कुछ समय के लिए खुले, इससे जहां व्यापारी और अधिक आगे आकर सरकार को सहयोग करेगा। वहीं, सरकार को भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। राहत के नाम पर तो सरकार व्यपारी को कुछ दे नहीं रही। संजीव कौशल ने कहा कि सरकार बताएं कि क्या व्यापारी कोरोना फैलाता है।

 

उन्होंने कहा कि हर जगह के व्यापारी ही टैक्स, जीएसटी दे, व्यापारी सरकार को मदद दे व प्रशासन को मदद करें और व्यापारी को ही चक्की में पीस दिया जाए यह न्याय उचित नहीं है।  उन्होंने  आग्रह किया कि कैबिनेट का जो निर्णय हुआ है उस पर मुख्यमंत्री पुनर्विचार करते हुए व्यापारियों को राहत दें।

व्हाट्सऐप पर मांगे सुझाव

प्रदेश व्यापार मंडल के पदाधिकारियों की ऑनलाइन बैठक 16 मई को रखी गई है और व्हाट्सऐप पर भी सुझाव मंगवाए गए हैं। इस सब में व्यापारी जो भी निर्णय करेंगे, उस पर सब की सहमति से आगामी में निर्णय लिया जाएगा।

न हो डाक कर्मियों की अनदेखी, कोविड वैक्सीन की अधिसूचना में शामिल न होने पर खफा

 

error: Content is protected !!