Mandi Hooch Tragedy: हिमाचल प्रदेश में  मंडी जिले के सुंदरनगर के सलापड़ और कांगू में नकली और जहरीली शराब कांड में डीजीपी संजय कुंडू ने शुक्रवार को एसआईटी के अधिकारियों के साथ बैठक की. अब जहरीली शराब के तार बद्दी, परवाणू और ऊना से जुड़ने के बाद एसपी बद्दी मोहित चावला, एसपी ऊना अर्जित सेन के अलावा एडिशनल एसपी कांगड़ा और डीएसपी परवाणू को भी एसआईटी में शामिल किया गया है।

Mandi Hooch Tragedy

सूत्रों के अनुसार, जहरीली शराब पीने से हुई मौतों के बाद पोस्टमार्टम और बिसरा जांच की प्रारंभिक रिपोर्ट में शराब में मिथाइल अल्कोहल होने की बात सामने आई है और आरोपियों पर शिकंजा कसने में यह अहम साक्ष्य हो सकता है. हालांकि, आधिकारिक तौर पर कोई पुष्टि नहीं कर रहा है।


बता दें कि कच्ची शराब तैयार करने वाले
मिथाइल अल्कोहल, इथाइल अल्कोहल और यूरिया के अलावा तेज नशे के लिए क्लोरल हाइड्रेड का इस्तेमाल भी करते हैं, जिससे नशे की तीव्रता को बढ़ाया जा सके. अब मृतकों के विसरा परीक्षण की जांच तीन चरणों में होगी. इसमें वैज्ञानिक पता लगाएंगे कि जहरीली शराब तैयार करने में कौन-कौन से केमिकल मिलाए गए हैं।

रिमांड पर भेजे सातों आरोपी

मामले में पुलिस ने 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. उन्हें सात दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा गया है. मामले में पुलिस ने आईपीसी की धारा 304, 308 और  120(बी) के तहत दर्ज एफआईआर के तहत इनकी गिरफ्तार हुई है. इन पर शराब बेचने के आरोप हैं.  आरोपी सोहन लाल उर्फ रवि(27)  छजवार, मलोह सुंदरनगर, प्रदीप कुमार(47) सरोह, सुदाहण, सुंदरनगर, जगदीश चंद(53) सुदाहण, और अच्छर सिंह (69) निवासी सुदाहण को अदालत ने 26 जनवरी तक सात दिनों के पुलिस रिमांड पर भेज दिया है.

Follow Facebook Page

error: Content is protected !!