कम ब्याज पर मिलेगा लोन, लॉकडाउन में बेरोजगार हुउ लोगों के लिए बड़ी उम्मीद लाया शहरी विकास विभाग

लॉकडाउन के कारण अपना रोजगार खो चुके बेरोजगार युवाओं की मदद के लिए शहरी विकास विभाग कुछ महत्त्वपूर्ण कदम उठाए हैं। प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के तहत विभाग उन लोगों को बैंक से लोन लेने में मदद करेगा जिनका लोन का पैसा बैंकों द्वारा अभी तक मंजूर नहीं किया गया है।

इस योजना के तहत केंद्र सरकार प्रदेश में बेरोजगार हो चुके युवाओं को अपना कारोबार शुरू करने के लिए ब्याज की कम दर पर दस हजार रुपए तक का लोन उपलब्ध करवा रहा है जिसके माध्यम से गरीब और छोटे तबके के बेरोजगार युवा अपना काम फिर से शुरू कर सके। ऐसे करीब 192 से ज्यादा लोगों की एप्लीकेशन बैंकों के पास लंबित है जिन्हें बैंकों द्वारा लोन सेंशन नहीं किया गया है। विभाग इन गरीब लोगों की मदद के लिए 15 अगस्त तक विशेष अभियान चलाएगा ताकि बैंक जल्दी से जल्दी इनका लोन सेंक्शन कर इनकी काम शुरू करने में मदद कर सके।

इस स्कीम के तहत अगर व्यापारी 200 रुपए तक की डिजिटल ट्राजेंक्शन करता है तो उसे इस स्कीम के तहत हर महीने 100 रुपए कैश बैक की भी सुविधा मिलेगी। इसके अलावा अगर व्यक्ति बैंक से दस हजार रुपए का लोन एक साल या उससे पहले वापस कर लेता है तो वह बैंक से 20 हजार रुपए तक के लोन की सुविधा पा सकता है।

यह बढ़ा हुआ लोन लेने में भी विभाग लोगों की मदद करेगा। इस स्कीम के तहत लोगों को लोन पर सात प्रतिशत सबसिडी का भी लाभ मिल रहा है। विभाग ने स्टेट लेवल बैंकर कमेटी को संबंधित सभी बैंकों को इस योजना के तहत ऋण लेने के लिए प्राप्त आवेदनों का जल्द निपटारा करने को कहा है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस स्कीम का लाभ मिल सके।

प्रदेश में एक साल पहले शुरू की गई इस योजना का लाभ करीब 3000 लोग उठा चुके है। जबकि प्रदेश में 5790 लोग ऐसे चिन्हित किए गए हैं । रेहड़ी फड़ी की दुकान चला कर अपना और अपने परिवार का पालन-पोषण करते है।

ऐसे लोगों की मदद के विभाग बैंकों से उन्हें लोन दिलाने में मदद करेगा जो अपना कारोबार आगे बढ़ाना चाहते है। विभाग के निदेशक मनमोहन शर्मा का कहना है कि इस योजना के तहत लोग फायदा उठा सकते हैं और प्रदेश के बेरोजगार लोगों के लिए यह सुनहरा अवसर है।

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!