चिंतपूर्णी में श्रद्धालुओं के लिए जल्द शुरू होगा लंगर, डीसी ने व्यवस्था का जायजा लिया

चिंतपूर्णी मंदिर में भारी भीड़ के चलते अव्यवस्था की शिकायतें मिलने पर रविवार को डीसी राघव शर्मा व्यवस्था जांचने के लिए मंदिर पहुंचे। उन्होंने मां के दर्शन करने के बाद व्यवस्था का भी जायजा लिया। उन्होंने श्रद्धालुओं के लिए मंदिर ट्रस्ट का लंगर जल्द शुरू करने का आश्वासन भी दिया।

इसके बाद डीसी ने चिंतपूर्णी होटल एसोसिएशन के चेयरमैन संजीव कालिया के आग्रह पर गेट नंबर एक पर सीवरेज की खुदाई के बाद सीढ़ियों की हालत सुधारने के निर्देश दिए। व्यवस्था में कहीं भी कमी दिखने पर उन्होंने उसे दूर करने के आदेश भी मंदिर अधिकारी को दिए। डीसी ने स्थानीय लोगों की समस्याएं भी सुनीं। 

छपरोह में स्ट्रीट लाइटें लगाने को लेकर श्मशानघाट के रास्ते को सुधारने तथा बिजली दफ्तर में रात के समय कोई बिजली कर्मी के मौजूद न होने की समस्याओं को गौर से सुना। उन्होंने लोगों को समस्याओं का हल करने का आश्वासन दिया। संजीव कालिया के निवेदन पर मंदिर ट्रस्ट का लंगर श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए शीघ्र शुरू करने की बात डीसी ने कही। इसके बाद बाजार का पैदल निरीक्षण किया।

अमेजॉन ने किया करार, अब ऑनलाइन होगा हिमाचल के सेब और सब्जियों का व्यापार

चिंतपूर्णी सदन में सभी सेक्टर मजिस्ट्रेट के साथ बैठक कर उचित दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने थाना प्रभारी को निर्देश दिए कि कुछ श्रद्धालु मास्क लगाने को लेकर लापरवाह दिख रहे हैं, इसको लेकर सख्ती की जाए। कहा कि आने वाले सावन अष्टमी के मेलों के लिए एसओपी जारी की जाएगी। 

सावन अष्टमी मेले को लेकर 23 जुलाई को बैठक होगी। इसमें महत्वपूर्ण निर्णय लिए जाएंगे। डीसी राघव शर्मा ने कहा रविवार के दिन चिंतपूर्णी में व्यवस्थाएं बेहतर दिखी हैं। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए मंदिर में अतिरिक्त सुरक्षा कर्मियों की तैनाती की गई थी। उनके साथ मंदिर अधिकारी अभिषेक भास्कर, वित्त अधिकारी आशीष शर्मा, थाना प्रभारी कुलदीप सिंह भी मौजूद थे।

मौसम: हिमाचल में रिमझिम बारिश, दो दिन ऑरेंज अलर्ट, लोगों और पर्यटकों को नदी-नालों के किनारे न जाने की हिदायत

बोलता हिमाचल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हिमाचल एनटीटी और आंगनबाड़ी वर्करों को मिलेगा प्री प्राइमरी शिक्षक बनने का अवसर

Mon Jul 19 , 2021
नर्सरी टीचर ट्रेनिंग करने वालों के साथ आंगनबाड़ी वर्करों के लिए भी प्री प्राइमरी शिक्षक बनने का मौका मिलने वाला है। नर्सरी और केजी कक्षा के लिए शिक्षक भर्ती के लिए विभाग के अधिकारी आरएंडपी नियम बनाने में जुट गए हैं। प्री प्राइमरी स्कूलों में चार हजार से अधिक शिक्षकों […]
error: Content is protected !!