Kullu : गाड़ी रोक पति-पत्नी पर जानलेवा हमला, नेरचौक मेडिकल कालेज में चल रहा उपचार, पुलिस ने घटनास्थल का लिया जायजा

कुल्लू कोर्ट परिसर में हुए मारपीट मामले ने नया मोड़ ले लिया है। लेनदेन के मामले में पूर्व पंचायत प्रतिनिधि पति-पत्नी और जिला भाजपा के सह मीडिया प्रभारी के बीच में मारपीट हुई थी। उस मामले में अब दूसरे पक्ष की तरफ से पूर्व पंचायत प्रतिनिधि पति-पत्नी पर जानलेवा हमला हुआ है। जानकारी के अनुसार काइस पंचायत के पूर्व प्रतिनिधि पति.-पत्नी जब अपने घर जा रहे थे, तो रास्ते में दूसरे पक्ष के लोग घात लगाकर बैठे थे और छरूडू नामक स्थान पर उन्होंने पूर्व पंचायत प्रतिनिधियों के वाहन को रोका और पति-पत्नी दोनों की पिटाई कर दी।

 

पिटाई करने के बाद दोनों को सड़क के किनारे फेंक दिया। इस दौरान राहगीर ने इसकी सूचना पुलिस को दी और उसके बाद स्थानीय लोगों व पुलिस ने दोनों को क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू में पहुंचाया। जहां दोनों की हालत नाजुक बनी हुई है। उधर, पुलिस अधीक्षक कुल्लू गुरुदेव शर्मा ने बताया कि इस मामले में एएसपी कुल्लू को जांच का जिम्मा सौंपा गया है, जिन्होंने घायल पति-पत्नी के बयान ले लिए हैं और घटनास्थल का जायजा लिया गया। गुरुवार को भी साथ लगते पंचायत प्रतिनिधियों के साथ पुलिस ने घटनास्थल का जायजा लिया।

गत बुधवार रात को उपचार के बाद दंपति को नेरचौक मेडिकल कालेज के लिए रैफर कर दिया है, जहां पर उनका उपचार चल रहा है। घायल दंपति में पति की हालत काफी नाजुक बताई जा रही है। यही नहीं, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर भी घटना की जानकारी मिलते ही पत्नी के साथ घायल दंपति का हाल जानने के लिए नेरचौक अस्पताल पहुंचे, जहां पर उन्होंने एसपी कुल्लू से निष्पक्ष जांच की मांग की है।

वहीं पूर्व में एसपी रहे गौरव सिंह को भी यहां एसपी कार्यालय के बाहर वापस लाने के नारे लगे। प्रदर्शन के दौरान आए कुछ लोगों ने यहां एसपी गौरव सिंह को लेकर भी नारेबाजी और वापस लाने की बात कही। यही नहीं, जब से पुलिस थाने को जाने वाले रास्ते में हुए झगड़े का वीडियो वायरल हुआ है, तब से लेकर अभी तक सोशल मीडिया में एसपी रहे कुल्लू के गौरव सिंह की कमी कुल्लू की जनता को खल रही है। हर कोई लिख रहा है कि गौरव सिंह यहां होते, तो ऐसा न होता। उनके जाते ही गुंड़ागर्दी बढ़ गई है।

तीन गिरफ्तार, पांच पर केस दर्ज

  कुल्लू के छरूडू में पति-पत्नी पर जानलेवा हमला करने वालों में से तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि पुलिस ने इस घटना में पांच लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। अभी दो लोगों की पुलिस को तलाश है। जानकारी है कि घटना के दौरान मारपीट करने वालों की संख्या अधिक थी, लेकिन पुलिस ने अभी तक सिर्फ अभी तक पांच लोगों को ही नामजद कर उनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। इस मामले में प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि पुलिस इस मामले में कार्रवाई करने में ढील बरत रही है। नतीजा यह निकला कि दूसरे पक्ष ने काईस पंचायत के पूर्व प्रधान परस राम और यूम नेगी पर जानलेबा हमला किया है।

 

प्रदर्शनकारियों का आरोप यह है कि मारपीट की घटना में शामिल लोग ऊंची राजनीतिक पहुंच रखने वाले हैं। एसपी कुल्लू गुरदेव शर्मा ने बताया कि मामले में पांच लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। जिनमें से तीन लोगों की गिरफ्तारियां हो चुकी हैं।

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!