HP High Court : 10 वर्षों तक अंशकालिक कार्यकाल पूरा करने वाले पंचायत चौकीदार बनेंगे दैनिक वेतनभोगी, हाईकोर्ट ने दिए आदेश

HP High Court : हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट ने 10 वर्षों तक बतौर अंशकालिक कार्यकाल पूरा करने वाले याचिकाकर्ता पंचायत चौकीदारों को नियत तिथि से दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों में परिवर्तित करने के आदेश दिए हैं हाईकोर्ट ने सरकार को आठ सप्ताह का समय दिया है।

हाईकोर्ट ने स्पष्ट किया है कि याचिकाकर्ता अपनी सेवाओं को नियत तारीख से अंशकालिक से दैनिक वेतन भोगी में बदलने के कारण किसी भी वित्तीय लाभ के हकदार नहीं होंगे।

नियत तारीख से उनकी वरिष्ठता को नियमितीकरण के उद्देश्य से माना जाएगा। इसका बाद में दावा कर सकते हैं। सरकार की दलील थी कि पार्ट टाइम चौकीदारों को संबंधित पंचायत के कर्मचारी होने के कारण पंचायत को दिए जाने वाले सहायता अनुदान से मानदेय दिया जा रहा है। कोर्ट ने पाया कि प्रतिवादी सरकार द्वारा जारी सहायता अनुदान से पारिश्रमिक का 90 फीसदी भुगतान किया जाता है।

Himachal Cabinet : 26 जुलाई से कोचिंग संस्थान, 2 अगस्त से खुलेंगे 10वीं से 12वीं तक के छात्रों के लिए स्कूल

अंशकालिक श्रमिकों की सभी नियुक्तियां सक्षम प्राधिकारी की पूर्व सहमति और अनुमोदन से की जाती हैं। इसलिए यह निष्कर्ष नहीं निकाला जा सकता है कि उक्त पदों पर कार्यरत व्यक्ति पंचायत के कर्मचारी हैं।

सरकार ने 31 मार्च, 2009 तक 10 साल निरंतर सेवा पूरी करने वाले शिक्षा और आयुर्वेद विभाग को छोड़कर सभी अंशकालिक चतुर्थ श्रेणी कर्मियों की सेवाएं दैनिक भोगी में परिवर्तित करने का निर्णय लिया है।

मामले के अनुसार पंचायत समितियों और जिला परिषदों में अंशकालिक आधार पर कार्यरत पंचायत चौकीदारों और चपरासी को 13 अक्तूबर 2009 और 11 सितंबर 2018 को लिए गए नीतिगत निर्णयों का लाभ दिया गया। याचिकाकर्ताओं इस आधार पर छोड़ दिया कि उनको सरकार ने नियुक्त नहीं किया था। न ही उन्हें सरकार से वेतन दिया जाता है।

HPU का स्थापना दिवस, यूनिवर्सिटी पहुंचने पर मुख्यमंत्री को झेलना पड़ा छात्रों का विरोध

न्यायाधीश संदीप शर्मा ने कहा कि पूर्वोक्त अनुमति केवल उन्हीं जिला परिषदों और पंचायत समितियों को दी गई है, जिनके पास अपने स्वयं के संसाधनों से सक्षम प्राधिकारी के पूर्व अनुमोदन से उनकी ओर से नियुक्त कर्मचारियों के वेतन और वेतन के खर्च को पूरा करने के लिए पर्याप्त आय है।

कार्यालय आदेश 11 सितंबर 2018  का अध्ययन करने के बाद न्यायालय ने पाया कि उत्तर दाताओं ने कार्यालय आदेश जारी करके वर्ग के भीतर वर्ग बनाने का प्रयास किया है, जो न्यायोचित नहीं है। 

बोलता हिमाचल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

नाहन नगर परिषद की गाडिय़ां खड़े-खड़े पी रही डीजल, नई कार्यकारिणी ने उजागर किया मामला

Fri Jul 23 , 2021
उत्तर भारत की सबसे पुरानी नगरपालिका परिषद में शुमार नगर परिषद नाहन के खटारा व बंद पड़े वाहन भी डीजल पीते हैं। इस बात का खुलासा नगर परिषद नाहन के पिछले करीब एक साल से भी अधिक समय से खटारा व बंद पड़े वाहनों में नगर परिषद द्वारा लगातार भरवाए […]
error: Content is protected !!