Latest Posts

HP COMPASSIONATE JOBS : JCC की बैठक में बोले मुख्यमंत्री, करूणामूलक पर कैबिनेट में बनेगी पॉलिसी

HP COMPASSIONATE JOBS : जेसीसी की बैठक एजेंडा के सभी बिंदुओं पर बात हुई, जिस मामलों में सीधा फैसला हुआ, उन पर सीएम ने ऐलान कर दिया। लेकिन अन्य मुद्दों पर भी कई नए फैसले हुए हैं। सरकार ने करूणामूलक और सीनियोरिटी के मामलों को भी इस बैठक में चर्चा में लिया।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि करूणामूलक आधार पर नियुक्ति के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक समिति गठित है। यह समिति आगामी मंत्रिमंडल बैठक में अपनी प्रस्तुति देगी। नियुक्ति की तिथि से वरिष्ठता के मामले को भी मुख्य सचिव की उपस्थिति में चर्चा में लिया गया।

HP COMPASSIONATE JOBS
HP COMPASSIONATE JOBS

इस बारे में भी मुख्य सचिव की अध्यक्षता में ही कमेटी का गठन किया, जो संबंधित विभागों से इस बारे में चर्चा करेगी। इस कमेटी में वरिष्ठता के लिए डिमांड कर रहे कर्मचारियों और अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ से भी राय ली जाएगी। मुख्यमंत्री ने जनजातीय क्षेत्रों में कार्यरत दैनिक वेतन भोगी एवं अनुबंध कर्मचारियों को जनजातीय भत्ता देने पर भी विचार करने की बात कही।

उन्होंने कहा कि सीनियर असिस्टेंट की तर्ज पर स्टेनो टाइपिस्ट की प्रोमोशन के लिए भी अवधि को दस से सात साल करने पर विचार होगा। अधीक्षक ग्रेड वन पोस्ट का नाम बदलने पर भी उन्होंने सैंधातिक मंजूरी दे दी। हालांकि नया नाम अभी फाइनल नहीं हुआ है।

 

अब पेंशन निधि चुनने की स्वतंत्रता

सीएम ने कहा कि एनपीएस कर्मचारियों को अब पेंशन निधि चुनने की स्वतंत्रता होगी, जिससे उनके निवेश पर बेहतर रिटर्न सुनिश्चित हो सकेगा। अब तक इन कर्मियों को सरकार द्वारा चुनी गई पेंशन निधि में ही निवेश अनिवार्य था। सभी एनपीएस कर्मचारियों को डीसीआरजी लाभ प्रदान किया जा रहा है और अब सरकार ने 15 मई, 2003 से 22 सितंबर, 2017 तक इस लाभ से वंचित एनपीएस कर्मचारियों को ग्रेच्युटी प्रदान करने का निर्णय लिया है।

मुख्यमंत्री की अपील मिलकर चलो, सब मसले सुलझेंगे

HP COMPASSIONATE JOBS
JCC Meeting Himachal 

मुख्यमंत्री ने कर्मचारियों से अपील की कि कुछ मसले जेसीसी में सुलझेंगे, कुछ आगे बजट में भी आएंगे। इसलिए सरकार के साथ मिलकर चलें और प्रदेश के विकास के भागीदार बनें। जो काम अभी नहीं हो पाए उनका भी रास्ता निकालेंगे। राज्य के विकास में कर्मचारियों का उल्लेखनीय योगदान रहा हैं।

 

कर्मचारियों की परिश्रम, समर्पण और प्रतिबद्धता के कारण ही हिमाचल आज देश के अन्य राज्यों के लिए एक आदर्श के रूप में उभरा है। उन्होंने कहा कि कोविड के कारण देश की अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है और हिमाचल भी इसका अपवाद नहीं है। कर्मचारियों ने इस महामारी से लडऩे में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है और राज्य इस संकट से सफलतापूर्वक बाहर निकलने में सफल रहा है।

सर्व अनुबंध कर्मचारी महासंघ ने मुख्यमंत्री का जताया आभार

कर्मचारियों की मांगों को लेकर शनिवार को शिमला के पीटरहॉफ आयोजित हुई जेसीसी की बैठक में अनुबंध कर्मचारियों को राहत मिली है। बैठक में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने अनुबंध कर्मचारियों की अवधि को तीन साल से घटाकर 2 साल करने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार 30 सितंबर, 2021 से अब अनुबंध अवधि सिर्फ दो ही साल की होगी।

 

इस घोषणा के बाद हिमाचल प्रदेश सर्व अनुबंध कर्मचारी महासंघ खुश है। महासंघ के कार्यकारी प्रदेशाध्यक्ष सुरेंद्र नड्डा, राज्य वरिष्ठ उपाध्यक्ष अजय पटियाल, वित्त राज्य सचिव अविनाश सैणी, राज्य उपाध्यक्ष संदीप शर्मा, प्रेस सचिव राकेश ठाकुर और र्कार्यकारी महासचिव सुनील शर्मा ने मुख्यमंत्री का धन्यवाद किया है।

अनुबंध दो साल होने पर बिजली बोर्ड तकनीकी स्टाफ खुश

 जेसीसी की बैठक के दौरान मुख्यमंत्री द्वारा अनुबंध अवधि को तीन साल से घटाकर दो साल करने की घोषणा पर बिजली बोर्ड में कार्यरत कर्मचारी खुश है। इन कर्मचारियों ने अनुबंध अवधि घटाने के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया है। प्रदेश के तकनीकी कर्मचारियों ने अनुबंध काल दो साल करने और नई पेंशन योजना के तहत 2009 की अधिसूचना जारी करने पर सरकार का धन्यवाद किया है।

 

यह पुरानी पुरानी पेंशन बहाली की ओर एक सार्थक कदम है व सरकार को जल्द ही पुरानी पेंशन बहाल कर कर्मचारियों में समानता लानी चाहिए। प्रदेश महामंत्री नेकराम ठाकुर ने कहा है कि जूनियर टी-मेट व हेल्परों का पदोन्नति कार्यकाल पांच से तीन वर्ष करने की घोषणा की थी उसके लिए अभी कोई भी आदेश जारी नहीं हुए है। उन्होंने सरकार से इस पर पर जल्द से जल्द फैसला लेने की मांग की है।

HP Covid Vaccine : हिमाचल प्रदेश में 50 लाख को कोरोना बैक्सीन की दूसरी डोज

Follow Facebook Page

error: Content is protected !!