Vocational teachers

वोकेशनल टीचरों ने 14 फरवरी तक का दिया सरकार को अल्टीमेटम, नियमित करने को लेकर सरकार बनाये पॉलिसी

Vocational teachers
Vocational teachers

प्रदेश के स्कूलो में वर्ष 2013 से वोकेशनल शिक्षा शुरू हुई थी, जिसके लिए ट्रेनरो की भर्ती वीपीटी (वोकेशनल ट्रेनर प्रोवाइडर) के तहत हुई है। पिछले 9 वर्षो से सेवाएं दे रहे ये ट्रेनर अब सरकार से नियमित करने और शिक्षा विभाग में शामिल करने की मांग कर रहे है। अगर सरकार ऐसा नहीं करती है तो इन अध्यापकों ने आंदोलन की चेतावनी दी है। 

शिमला में पत्रकार वार्ता के दौरान व्यवसायिक शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष यशवंत ठाकुर ने बताया कि वे सरकार से मांग कर रहे है कि व्यवसायिक शिक्षकों को नियमित करें और स्थाई नीति बनाए। उन्होंने बताया कि नई शिक्षा नीति के तहत व्यवसायिक शिक्षा को और अधिक महत्व दिया गया है और प्रदेश में 2000 के करीब ऐसे शिक्षक है और अपने भविष्य को लेकर असुरक्षित है।

उन्होंने बताया कि  शिक्षकों को बीटीपी (वोकेशनल ट्रेनर प्रोवाइडर) के तहत नियुक्ति मिली है  और अब सरकार से मांग है कि वोकेशनल ट्रेनर को भी शिक्षा विभाग में शामिल करें। उन्होंने बताया कि सरकार ने 14 फरवरी तक उचित कार्रवाई नहीं की तो वोकेशनल शिक्षक हड़ताल को मजबूर होंगे और संघर्ष के लिए सड़कों पर उतरेंगे।  

Follow Facebook Page

 

Himachal employees : प्रदेश कर्मचारियों को तोहफा, 3 फीसदी बढ़ा डीए, अधिसूचना जारी

error: Content is protected !!