Himachal News – TODAY TOP 10

जन्मदिवस पर राज्यपाल से मिलने राजभवन पहुंचे सीएम, कोरोना की स्थिति से भी अवगत करवाया

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने शनिवार को राजभवन जाकर राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय को 74वें जन्मदिन की बधाई दी। उन्होंने इस दौरान राज्यपाल को प्रदेश में कोरोना के वर्तमान हालात से अवगत करवाया। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोरोना कफ्र्यू के सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में एक समय कोरोना संक्रमण के कारण एक्टिव केस जो 40 हजार तक पहुंच गए थे, अब घटकर 5,100 के आसपास रह गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने से सरकारी कामकाज को पटरी पर लाने के लिए कोरोना कफ्र्यू में ढील दी है।

कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए सरकार तैयार

उन्होंने कहा कि सरकार ने अब बिना आरटी-पीसीआर रिपोर्ट के प्रदेश में प्रवेश पाया जा सकता है। हालांकि कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग के लिए अभी पंजीकरण करवाने की शर्त को नहीं हटाया गया है। उन्होंने कहा कि यदि कोरोना की तीसरी लहर आती है, तो उससे निपटने के लिए भी सरकार ने सभी प्रभावी कदम उठाए हैं तथा बाल रोग से संबंधित स्वास्थ्य सेवाओं पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। उन्होंने राज्यपाल के दीर्घ एवं स्वस्थ जीवन की कामना की।

राष्ट्रपति सहित इन नेताओं ने दूरभाष पर दी राज्यपाल को बधाई

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू तथा गृह मंत्री अमित शाह ने दूरभाष के माध्यम से राज्यपाल को जन्मदिवस की शुभकामनाएं दीं तथा उनकी दीर्घायु व स्वस्थ जीवन की कामना की। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के अलावा कृषि मंत्री वीरेंद्र कंवर के अलावा पुलिस महानिदेशक संजय कुंडू और पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी राजभवन जाकर उन्हें बधाई दी। नगर निगम शिमला की महापौर सत्या कौंडल, विश्वविद्यालयों के कुलपतियों, राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों सहित अन्य गण्यमान्य व्यक्तियों और राजभवन के अधिकारियों व कर्मचारियों ने भी राज्यपाल को जन्मदिवस की बधाई दी।

 

हिमाचल में प्री-मॉनसून की पहली बारिश का कहर, कई फसले प्रभावित, मैदानी इलाकों में नुकसान

हिमाचल प्रदेश में प्री-मानसून के आने के आसार हैं. शनिवार और रविवार को भारीबारिश, अंधड़ और ओलावृष्टि काऑरेंज अलर्ट भी प्रदेश में जारी किया गया है. इस दौरान मलबा और पेड़ गिरने कीचेतावनी भी जारी की गई है. और लोगों को नदी-नालों से दूर रहने की अपील की गई है..

जिसके बाद सिरमौर जिला में बीती रात हुई बारिश व तूफान से भारी नुकसान हुआ,खास कर सिरमौर जिला के ऊपरी इलाकों में इसका असर देखने को मिला जहां बारिश व तूफान सेखासकर फलदार पौधों को नुकसान पहुंचा है तूफान से आडू ,सेब,पलम, अखरोट, खुमानी सहित कई फसलों कोनुकसान हुआ है।

हिमाचल: पहले दिन 1004 रूटों पर दौड़ेंगी सरकारी बसें, सवारियों के रिस्पांस पर बढ़ेंगी संख्या

हिमाचल प्रदेश में सोमवार से करीब 1004 रूटों पर हिमाचल पथ परिवहन निगम(एचआरटीसी) बसें चलाने की तैयारी है। इसके बाद सवारियों का रिस्पांस देखकर एचआरटीसी बसों की संख्या बढ़ाई जाएगी। बीते शुक्रवार को मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में प्रदेश के भीतर बसें चलाने का फैसला लिया गया है। इसके लिए चालकों-परिचालकों से रविवार तक डिपो या अड्डा में रिपोर्ट करने के लिए कहा गया है।

निजी ऑपरेटरों की सहमति नहीं बनी तो एचआरटीसी बसों की संख्या बढ़ाई जाएगी। प्रदेश में चलाए जाने वाले रूटों के हिसाब से चालकों-परिचालकों की रोटेशन में ड्यूटियां लगाई जाएंगी। सोमवार सुबह से 24 घंटे निगम की बसें सड़कों पर दौड़ेंगी। बसों में सवारियों की ऑक्यूपेंसी जांचने के लिए इंस्पेक्टर फील्ड में सेवाएं देंगे। 50 फीसदी ऑक्यूपेंसी के साथ हिमाचल में बसें चलेंगी। बसों में मास्क पहनना अनिवार्य किया है। सवारियों के पास सैनिटाइजर होना जरूरी है।

तीन वाली सीट पर दो और 2 वाली सीट पर एक सवारी बैठेगी। परिवहन निगम के जीएम (ट्रैफिक) पंकज सिंघल ने बताया कि सभी आरएम से फायदे वाले रूटों पर बसें चलाने के लिए कहा गया है। सवारियों की संख्या बढ़ने के साथ बसें भी बढ़ाई जाएंगी। उन्होंने कहा कि निजी ऑपरेटरों ने बसें नहीं चलाई तो निगम की और बसें चलाई जाएंगी। परिवहन मंत्री बिक्रम ठाकुर ने बताया कि सोमवार से परिवहन सेवाएं शुरू की जा रही हैं। बाहरी राज्यों के लिए अभी बसें नहीं चलेंगी। परिवहन निगम पर कोरोना की बंदिशें लागू नहीं रहेंगी।

कहां, कितने रूटों पर चलेंगी बसें

शिमला में 225, मंडी 229 कांगड़ा 165, ऊना 25, सोलन70, सिरमौर 80, बिलासपुर 30, कुल्लू 40, हमीरपुर 33, चंबा 40, किन्नौर 28 और लाहौल स्पीति में 19 रूटों पर बसें चलाई जाएंगी।

बसें चलाने के लिए बेनतीजा रही निजी आपरेटरों की बैठक 

हिमाचल निजी बस ऑपरेटर संघ बसें चलाने को लेकर एकजुट नहीं है। कुछ ऑपरेटर बसें चलाने के हक में हैं तो कई बसें न चलाने पर अड़े हैं। ऑपरेटरों का कहना है कि 50 फीसदी पथकर और टोकन टैक्स माफ किया है। ऑपरेटर सौ फीसदी टैक्स माफ करने की मांग कर रहे हैं। शनिवार को आयोजित बैठक में इस बारे में कोई निर्णय नहीं हो पाया। अब ऑपरेटरों ने रविवार को दोपहर बाद 3 बजे बैठक बुलाई है। यह बैठक वर्चुअल होगी।

हिमाचल प्रदेश निजी बस ऑपरेटर संघ की बैठक शनिवार को अध्यक्ष राजेश पराशर की अध्यक्षता में हुई। इसमें सभी जिलों की यूनियन ने भाग लिया। यूनियन के महासचिव रमेश कवल ने बताया कि बैठक में सभी जिला की यूनियन ने कैबिनेट में हुए फैसले पर नाराजगी जताई है। इस कारण बसें चलाने पर कोई निर्णय नहीं हो पाया है। अब सभी जिलों की यूनियन आपस में तय कर लें कि 14 जून से बसें चलानी है या नहीं। इसके बाद 13 जून को 3 बजे वर्चुअल  माध्यम से एक और बैठक आयोजित की जाएगी। इसमें सभी जिलों की यूनियन की राय ली जाएगी और आगामी रणनीति तैयार की जाएगी।

प्री मानसून की दस्तक ने मचाई तबाही, 100 से ज्यादा घरों-गोशालाओं की छतें उड़ीं, सेब को भारी नुकसान

हिमाचल प्रदेश में प्री मानसून ने दस्तक दे दी है। शुक्रवार रात से शनिवार तड़के तक प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में बादल झमाझम बरसे। अंधड़ ने भी तबाही मचाई। सेब, आम सहित गुठलीदार फसलों को करोड़ों का नुकसान हुआ है। कई जगह पेड़ उखड़ गए और बिजली के पोल गिरे। प्रदेश भर में 100 से ज्यादा मकानों और गोशालाओं की छतें अंधड़ से उड़ गईं।

शनिवार को दिन भर प्रदेश में मौसम साफ रहा। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने रविवार को भी प्रदेश में भारी बारिश, अंधड़ और ओलावृष्टि का ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। 14 से 16 जून तक येलो अलर्ट रहेगा। जिला मंडी में शुक्रवार आधी रात अंधड़ और बारिश से 60 कच्चे मकान-गोशालाओं को क्षति पहुंची है। लोगों के घरों में पानी घुस गया। राजस्व विभाग ने प्रारंभिक तौर पर निजी और सरकारी संपत्ति का करीब बीस लाख का नुकसान आंका है। कृषि और बागवानी भी प्रभावित हुई है।

पेड़ों की टहनियां टूटकर वाहनों पर गिरने से नुकसान हुआ। नदी-नाले भी उफान पर रहे। रामपुर उपमंडल के कई इलाकों में अंधड़-बारिश ने सेब, प्लम और नाशपति की तैयार हो रही फसल को बर्बाद कर दिया। सेब के पौधे तक उखड़ गए। विद्युत मंडल पांवटा साहिब में अंधड़ और बारिश से दो 33 केवी फीडर व नौ 11 केवी फीडरों समेत दर्जनों बिजली आपूर्ति लाइन प्रभावित हुई हैं।

विद्युत उपमंडल पुरुवाला के तहत यमुना नदी के तटीय इलाकों में कई पेड़ और टहनियां गिरने से बिजली की एचटी और एलटी लाइन समेत 14 बिजली के पोल टूट गए। जिला सोलन में एक दिन की भारी बारिश, अंधड़ से 50 लाख का नुकसान हुआ है। अर्की में आधा दर्जन घरों और गोशालाओं की छतें उड़ गई। अंधड़ से टमाटर, शिमला मिर्च की फसलें जमीन पर बिछ गई हैं।

जिला कुल्लू में बारिश और अंधड़ से सेब व प्लम की फसल को नुकसान हुआ है। लारजी-सैंज मार्ग पर पागल नाले में बाढ़ आने से मार्ग अवरुद्ध रहा। लाहौल घाटी में ग्रांफू-काजा मार्ग भी नदी-नालों के उफान पर होने से बंद हो गया है।

राजधानी शिमला में भी शुक्रवार रात जमकर बारिश हुई। शिमला जिले के चौपाल उपमंडल के थरोच, कुताह, भराणू समेत कई इलाकों में बारिश-अंधड़ से सेब, नाशपाती और अन्य फलों को नुकसान हुआ है। पौधों से सेब झड़ गए।

इन क्षेत्रों में बागवानों को लाखों रुपये का नुकसान हुआ है। शनिवार को पूरे प्रदेश में मौसम साफ रहा।  ऊना में अधिकतम तापमान 38.0, बिलासपुर में 35.0, हमीरपुर में 34.8, चंबा में 34.1, सुंदरनगर में 33.9, नाहन में 29.0, सोलन में 30.5, धर्मशाला में 28.2, शिमला में 24.8, केलांग में 23.6 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ। शुक्रवार रात को न्यूनतम तापमान में दो से तीन डिग्री की कमी दर्ज हुई।

कोरोना: हिमाचल में 18-44 आयु वर्ग के लोगों को अब पांच सत्रों में लगेगी वैक्सीन,

हिमाचल में कोविड वैक्सीन का इंतजार कर रहे लोगों के लिए राहत की खबर है। पहले प्रदेश को वैक्सीन की खुराकें 16 व 26 जून, दो जुलाई को मिलनी थीं, अब पूरी खेप 12 जून को ही पहुंच रही है। यह जानकारी प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने दी। कहा कि इन सभी खुराकों का उपयोग 21 जून तक किया जाएगा। इसलिए पहले से नियोजित 14 और 17 जून के अलावा और अधिक सत्र आने वाले सप्ताह में 18-44 आयु वर्ग के लोगों के लिए आयोजित किए जाएंगे।

सरकार की ओर से तय की गई योजना के अनुसार अब वैक्सीनेशन सत्र 14, 15, 16, 17 और 18
जून को आयोजित होंगे। यदि इस श्रेणी का कोई टीका किसी जिले के बच जाता है तो जिलों को 19 जून  को मॉप अप राउंड आयोजित करने के लिए कहा गया है। सरकार के अनुसार समाप्त करने की 21 जून  से लागू हो रही मुफ्त टीकाकरण की नई नीति को देखते हुए प्रदेश में राज्य सरकार की ओर से निर्माता से खरीदे गए सभी टीके 19 जून तक खत्म करने की योजना है।

विदेश में पढ़ाई, नौकरी के लिए जाने वालों को 28 दिन बाद लगेगी दूसरी डोज

विदेश में पढ़ाई और नौकरी के लिए जाने वालों को कोविड टीकाकरण की दूसरी डोज 28 दिन बाद देने का विशेष प्रावधान किया गया है। इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक खेलों में भाग लेने वाले खिलाड़ियों और कर्मचारियों को भी कोविड टीकाकरण की दूसरी डोज की अंतराल को कम करने का प्रावधान है। इन श्रेणियों में आने वाले लाभार्थी संबंधित ब्लॉक चिकित्सा अधिकारियों से संपर्क करेंगे, ताकि जिला स्तर पर समेकित आंकड़ों को संकलित कर सकें। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. गुरदर्शन गुप्ता ने बताया कि टीकाकरण की विशेष व्यवस्था पहली खुराक के 28 दिनों के बाद उन लोगों के लिए उपलब्ध होगी, जिन्होंने विदेश यात्रा की योजना बनाई है।

अन्य लोगों के लिए दूसरी डोज के लिए 84 दिन का अनिवार्य न्यूनतम अंतराल रखा गया है। इसके लिए खंड चिकित्सा अधिकारियों को डाटा बेस तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं। उसके आधार पर ही टीकाकरण का विशेष सत्र आयोजित किया जाएगा। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि राष्ट्रीय कोविड टीकाकरण कार्यक्रम 21 जून 2021 से लागू होगा, जिसमें निजी अस्पतालों के लिए वैक्सीन की खुराक की कीमत प्रत्येक वैक्सीन निर्माता की ओर से घोषित की जाएगी। निजी अस्पतालों की ओर से 150 रुपये प्रति खुराक सेवा शुल्क के रूप में लेने का प्रावधान किया है। इसके साथ ही कोविशील्ड के लिए 780 रुपये, कोवैक्सीन के लिए 1410 रुपये, स्पूतनिक वी के लिए 1145 रुपये की दरें निर्धारित की गई हैं।

पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह को लेकर अफवाह फैलाने पर मामला दर्ज

कोरोना संक्रमण से लड़ रहे पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को लेकर अफवाह फैलाना भारी पड़ गया। सोशल मीडिया पर डाली पोस्ट के आधार पर सोलन में एफआईआर दर्ज हुई है। यह एफआईआर नगर निगम के उपमहापौर राजीव कुमार कौड़ा ने दर्ज करवाई है। उन्होंने शिकायत में जानबूझ कर अफवाह फैलाने का आरोप लगाया है।

शिकायत के आधार पर पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है। जानकारी के अनुसार नगर निगम के उपमहापौर राजीव कुमार कौड़ा ने पुलिस में मामला दर्ज करवाया है। उन्होंने लिखा है कि शुक्रवार देर शाम एक झूठी खबर सोशल मीडिया में फैला दी।

सोशल मीडिया पर लिखा कोरोना की जंग हारे हजारों दिलों की धड़कन एक्स चीफ मिनिस्टर राजा वीरभद्र सिंह व पूर्व मुख्यमंत्री राजा वीरभद्र सिंह नो मोर। इन शब्दों के पोस्ट होने के बाद लोगों में अराजकता और रोष का माहौल बन गया। शिकायतकर्ता ने शिकायत में लिखा है कि सोशल मीडिया पर यह पोस्ट जानबूझकर डाली गई|

जिस कारण लोगों को आघात पहुंचा है। शिकायतकर्ता ने शिकायत में लिखा है कि पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह स्वस्थ हैं और स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं। इस मामले की पुष्टि अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अशोक वर्मा ने की है। उन्होंने बताया कि मामला दर्ज कर पुलिस छानबीन में जुटी है।

छह विभागों के डॉक्टरों की निगरानी में चल रहा पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह का उपचार

पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद आईजीएमसी प्रबंधन और भी सजग हो गया है। शनिवार को आईजीएमसी के कॉलेज प्राचार्य ने छह विभागों के कंसलटेंट डॉक्टरों की टीम का गठन किया।

 

अलग-अलग बीमारियों के डॉक्टर इलाज के दौरान अन्य डॉक्टरों के साथ मिलकर उपचार करेंगे। पूर्व सीएम के स्वास्थ्य पर लगातार निगरानी भी रखेंगे। इसकी पुष्टि आईजीएमसी के कॉलेज प्राचार्य डॉ. रजनीश पठानिया ने की है।

वीरभद्र सिंह आईजीएमसी के मेकशिफ्ट वार्ड में दाखिल हैं। एनेस्थीसिया, कार्डियोलॉजी, मेडिसन, कार्डियोथोरेसिक सर्जरी, एंडो कार्योनोलॉजी और नेफ्रोलॉजी विभाग के कंसलटेंट डॉक्टरों की तैनाती की गई है। इसके अलावा नोडल ऑफिसर को क्लीनिकल मैनेजमेंट की देखभाल का जिम्मा दिया गया है।

 

अगर किसी चीज की जरूरत पड़ती है तो इसकी जिम्मेदारी आईजीएमसी के एमएस को भी दी गई है। उधर शनिवार को नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री भी अस्पताल पहुंचे। आईजीएमसी के कॉलेज प्राचार्य डॉ. रजनीश पठानिया ने बताया कि पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह की हालत में सुधार है। चिकित्सक उनके स्वास्थ्य पर निगरानी कर रहे हैं।

फूड पाइप से दी जा रही हाई प्रोटीन डाइट

पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को मेकशिफ्ट वार्ड में अन्य मरीजों से अलग दाखिल किया गया है। इन्हें एनआरएम मास्क लगाया गया है। ऑक्सीजन लेवल भी 95 से ऊपर चल रहा है। फूड पाइप से उन्हें हाई प्रोटीन डाइट दी जा रही है। इसमें काला चना का जूस समेत अन्य चीजें शामिल हैं।

वीरभद्र स्वस्थ, आईजीएमसी में ले रहे स्वास्थ्य लाभ : विक्रमादित्य

पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की सेहत में सुधार है और डॉक्टरों की निगरानी में स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं। यह जानकारी उनके पुत्र एवं कांग्रेस के विधायक विक्रमादित्य सिंह ने पूर्व सीएम की फेसबुक आईडी के जरिये दी। विक्रमादित्य ने वीरभद्र सिंह के स्वास्थ्य के बारे में चल रहीं अफवाहों को पूरी तरह खारिज किया और कहा कि वीरभद्र सिंह डॉक्टरों की निगरानी में स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मां भीमाकाली के आशीर्वाद, प्रदेश के लोगों के स्नेह और शुभचिंतकों की शुभकामनाओं से उनके स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है। साथ ही अपील की है कि ऐसी अफवाहों पर ध्यान न दें। आईजीएमसी शिमला में दाखिल वीरभद्र सिंह और उनकी पत्नी पूर्व सांसद प्रतिभा सिंह की बीते शुक्रवार को कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वीरभद्र सिंह दूसरी बार पॉजिटिव हुए हैं।

हिमाचल में 17 कोरोना संक्रमितों की मौत, 65 दिनों बाद सबसे कम 383 नए पॉजिटिव

हिमाचल प्रदेश में शनिवार को 17 और कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत हो गई है। शिमला जिले में चार, जबकि कांगड़ा, मंडी, चंबा, सिरमौर और सोलन में दो-दो, वहीं, ऊना, कुल्लू व हमीरपुर में एक-एक नया मामला आया है। उधर, प्रदेश में नए कोरोना मामलों में कमी दर्ज की गई है। करीब 65 दिनों बाद एक दिन में 383 नए पॉजिटिव मरीज आए हैं।

इससे पहले छह अप्रैल को 380 और सात को 514 नए मामले आए थे। इसके बाद आंकड़ा लगातार बढ़ता रहा। शनिवार को कांगड़ा जिले में 116, मंडी 60, शिमला 44, चंबा 33, सिरमौर 25, सोलन 23, ऊना 25, हमीरपुर 15, बिलासपुर 17, किन्नौर 10, कुल्लू आठ और लाहौल-स्पीति में सात नए मामले आए हैं।

बीते 24 घंटों के दौरान प्रदेश में 830 मरीजों ने कोरोना को मात दी। अब प्रदेश में कुल कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 198313 पहुंच गया है। इनमें से अब तक 189522 संक्रमित ठीक हो चुके हैं। सक्रिय कोरोना मामले घटकर 5402 रह गए हैं। प्रदेश में अब तक 3368 संक्रमितों की मौत हुई है।

बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना की जांच के लिए 20910 लोगों के सैंपल लिए गए। प्रदेश के 11 जिलों में सक्रिय मामले एक हजार से नीचे आए गए हैं। कांगड़ा में ही अब एक हजार से अधिक सक्रिय केस है।

किस जिले में कितने सक्रिय मामले

कांगड़ा        1180
शिमला        617
सोलन          383
मंडी             777
चंबा             620
सिरमौर        346
ऊना             411
बिलासपुर      156
हमीरपुर        432
कुल्लू            276
किन्नौर         145
लाहौल-स्पीति  59

हिमाचल में सक्रिय मामले 5 हजार, बंदिशें हटाने के बाद स्वास्थ्य विभाग अलर्ट

हिमाचल प्रदेश में बसें चलाने और पर्यटकों की बिना निगेटिव रिपोर्ट एंट्री के फैसले के बाद स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है। विभाग का मानना है कि कोरोना बंदिशों में छूट देने के बाद प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले फिर बढ़ सकते हैं।

इसके चलते स्वास्थ्य विभाग ने मेडिकल कॉलेजों, सीएमओ और बीएमओ को अलर्ट किया है। हिमाचल में कोरोना की दूसरी लहर सक्रिय है। अस्पतालों में अभी भी 10 फीसदी मरीज गंभीर हैं।

हिमाचल में एक्टिव मामलों की संख्या भी 5 हजार से ज्यादा है। इन्हीं को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग चिंतित है। सरकार ने बाहरी राज्यों से आने वाले सैलानियों के लिए आरटीपीसीआर रिपोर्ट की अनिवार्यता खत्म कर दी है। अब बिना कोविड जांच के सैलानी और अन्य लोग हिमाचल आ सकते हैं।

इससे इन लोगों के साथ संक्रमण भी हिमाचल में प्रवेश कर सकता है। बसों चलाने को लेकर अगर सख्ती नहीं की गई तो संक्रमण एक से दूसरी जगह पहुंच सकता है।

किसी भी तरह की कोई चूक न हो, इसलिए सभी जिलों के सीएमओ, बीएमओ समेत मेडिकल कॉलेजों के प्रिंसिपलों को निर्देश दिए हैं कि जिन डॉक्टरों, फार्मासिस्टों और नर्सों को फील्ड में तैनात किया है।

 

उनकी वहीं सेवाएं ली जाएं। स्वास्थ्य सचिव अमिताभ अवस्थी ने कहा कि सीएमओ, बीएमओ समेत मेडिकल कॉलेजों के प्रिंसिपलों से अलर्ट रहने के लिए कहा है।

500 कोरोना मरीज अस्पतालों में भर्ती
शिमला। हिमाचल के अस्पतालों में करीब 500 कोरोना मरीज उपचाराधीन हैं। कुल एक्टिव मरीजों में से 10 फीसदी ऐसे मरीज हैं, जो गंभीर स्थिति में हैं। ऐसे में अभी भी और सतर्कता बरतने की जरूरत है।

 

हिमाचल में 14 जून से 50 फीसदी सवारियों के साथ 24 घंटे चलेंगी बसें

हिमाचल प्रदेश के भीतर सोमवार 14 जून से 24 घंटे सरकारी और निजी बसें 50 फीसदी सवारियों के साथ चलेंगी। परिवहन मंत्री बिक्रम सिंह ने बताया कि कोरोना कर्फ्यू की बंदिशें परिवहन सेवा पर लागू नहीं होंगी। प्रदेश में लंबे रूटों को ध्यान में रखते हुए बसों को 24 घंटे चलाने की व्यवस्था की गई।

अभी अंतरराज्यीय बस सेवा भी शुरू नहीं की जाएगी। बसों में मास्क पहनना अनिवार्य किया गया है। सवारियों के पास सैनिटाइजर, 3 वाली सीट पर 2 और दो वाली सीट पर एक सवारी बैठेगी। इसके लिए परिवहन विभाग एसओपी जारी करेगा।

बस में सफर करने वाले व्यक्ति के लिए टिकट ही कर्फ्यू पास माना जाएगा। बाहरी राज्यों के लिए बसें चलाने के मामले पर कैबिनेट में चर्चा हुई है, लेकिन निर्णय लिया गया कि अभी दूसरे राज्यों के परिवहन महकमे के साथ इस पर चर्चा होगी। उसके बाद निर्णय लिया जाएगा। बताया जा रहा है कि परिवहन निगम एक हजार के करीब रूटों पर बसें चलाएगा। सवारियां बढ़ने के साथ रूटों को बढ़ाया जाएगा।

इधर, निजी ऑपरेटरों ने भी बसें चलाने को लेकर शनिवार को बैठक बुलाई है। हालांकि, ये ऑपरेटर बसें चलाने को राजी हो गए हैं। प्रदेश में इस समय परिवहन निगम की 3200 और 3100 निजी बसें चलती हैं।

निजी बस ऑपरेटरों का स्पेशल रोड और टोकन टैक्स आधा किया माफ

प्रदेश सरकार ने निजी बस ऑपरेटरों को राहत बड़ी राहत दी है। इंट्रस्ट सबमिशन स्कीम के तहत ऑपरेटरों को वर्किंग कैपिटल के ऊपर प्रति बस 2 और अधिकतम 20 लाख रुपये का कर्ज दिया जाएगा। ऑपरेटरों की पहली किश्त का 75 फीसदी सरकार वहन करेगी जबकि दूसरी किश्त का 50 फीसदी लोन सरकार देगी। अन्य राशि आपरेटरों को देनी है।

इसके साथ ही सरकार ने निजी बसों, टैक्सी, मैक्सी, ऑटो रिक्शा, स्कूल बस का 50 फीसदी स्पेशल रोड और टोकन टैक्स माफ करने का फैसला लिया है। इस टैक्स में एक अगस्त 2020 से 30 जून 2021 तक 11 माह की छूट दी है। सरकार पर इसका 23 करोड़ का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा। हिमाचल में लाखों टैक्सी, मैक्सी, बस, ऑटो ऑपरेटरों का फायदा होगा।

नाकाबंदी पर कार से डेढ़ किलो चरस बरामद, 2 युवक गिरफ्तार

पधर पुलिस ने कांगड़ा जिले के 2 युवकों से 1 किलो 510 ग्राम चरस बरामद कर दोनों युवकों को एनडीपीएस एक्ट के तहत गिरफ्तार किया है। जानकारी के अनुसार शनिवार को हैड कांस्टेबल अजय कुमार, अश्विनी कुमार व जोगिंद्रनगर के संजय कुमार ने घटासनी-बरोट राजमार्ग पर नाका लगाया हुआ था। इस दौरान झटींगरी की तरफ से आ रही सफेद रंग की मारुति कार को जांच के लिए रोका गया।

कार में चालक सहित 2 लोग सवार थे। तलाशी लेने पर उक्त कार से 1 किलो 510 ग्राम चरस बरामद हुई। मामले की पुष्टि करते हुए डीएसपी पधर लोकेंद्र नेगी ने बताया कि दोनों युवकों सुनील कुमार (28) निवासी चड़ी, शाहपुर कांगड़ा और कार चालक राजेश कुमार निवासी कांगड़ा को एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है। इन्हें न्यायालय में पेश करने के उपरांत रिमांड पर लिया जाएगा।

देश में रिकवरी दर बढ़कर 95 फीसदी के पार

देश में कोरोना संक्रमण की रफ्तार धीमी पड़ने और इस महामारी को मात देने वालों की संख्या में निरंतर इजाफे से रिकवरी दर बढ़कर 95.7 फीसदी हो गई है, वहीं सक्रिय मामलों की दर घटकर 3.68 प्रतिशत रह गई है। इस बीच शुक्रवार को 34 लाख 33 हजार 763 लोगों को कोरोना के टीके लगाए गए।

देश में अब तक 24 करोड़ 96 लाख 304 लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से शनिवार सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटों में 84,332 नए मामले सामने आए। इस दौरान एक लाख 21 हजार 311 मरीज स्वस्थ हुए। सक्रिय मामले 40 हजार 981 कम हुए। पिछले 24 घंटों के दौरान 4002 मरीज अपनी जान गंवा बैठे। देश में कोरोना से मृत्यु दर अभी 1.25 फीसदी है।

पड़ोसी देश पाकिस्तान में अब तक कोरोना से 9.38 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और 21,576 मरीजों की मौत हो चुकी है। अन्य पड़ोसी देश बंगलादेश में भी कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है, जहां 8.22 लाख लोग संक्रमित हुए हैं और 13,032 मरीजों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा दुनिया के अन्य देशों में भी कोरोना वायरस के संक्रमण से स्थिति खराब है। वहीं विश्वभर में कोरोना वायरस (कोविड-19) का प्रकोप जारी है और अब तक इससे 37.80 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

vaccine: केंद्र की सलाह, वैक्सीन की बर्बादी रोकें

भारत सरकार ने कहा है कि टीकाकरण करने वाले व्यक्ति को सलाह दी जाती है कि हर वॉयल (शीशी) को खोलने की तारीख और समय नोट करें। सभी वैक्सीन वॉयल को खुलने के चार घंटे के अंदर उपयोग कर लेना चाहिए। इसलिए, वैक्सीन की बर्बादी एक फीसदी या उससे कम होने की उम्मीद बिलकुल भी अनुचित नहीं है। यह तार्किक है और इसे प्राप्त किया जा सकता है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पास टीके की 1.17 करोड़ से अधिक खुराकें उपलब्ध हैं जबकि अगले तीन दिन के भीतर उन्हें 38 लाख अधिक खुराकें और दी जाएंगी।

अब तक राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों को 25.60 करोड़ से अधिक खुराकें दी गई हैं। ये खुराकें उन्हें केंद्र की ओर से निशुल्क और राज्यों द्वारा सीधे खरीद की श्रेणी में दी गई हैं।मंत्रालय ने बताया कि कुल 24 करोड़ 44 लाख छह हजार 96 खुराकों (बर्बाद हुए टीकों समेत) का इस्तेमाल हुआ है।

उसने बताया कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पास कोविड-19 रोधी टीकों की कुल एक करोड़ 17 लाख 56 हजार 911 खुराकें अब भी मौजूद हैं।

चौथे दिन भी कोरोना के नए केस एक लाख से कम

नई दिल्ली। देश में कोविड-19 के घटते प्रकोप के बीच लगातार चार दिन से कोरोना के नए मामले एक लाख से कम रहे हैं और पिछले 24 घंटों के दौरान संक्रमण के 91,702 मामले सामने आए। कोरोना से पिछले 24 घंटों के दौरान 3,403 लोगों की मौत हुई है, जो गुरुवार की 6,148 मौतों की तुलना में काफी कम है।

पिछले 24 घंटों के दौरान एक लाख 34 हजार 580 मरीज स्वस्थ हुए। सक्रिय मामलों की दर घटकर 3.33 प्रतिशत रह गई है, जबकि रिकवरी दर बढ़कर अब 94.93 फीसदी हो गई है।

जल शक्ति विभाग: पैरा पंप ऑपरेटरों और पैरा फिटरों को मिलेंगे 4600 प्रति माह

हिमाचल प्रदेश के जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ने कहा है कि मंत्रिमंडल से मंजूरी मिलने के बाद अब सरकार शीघ्र ही जल शक्ति विभाग में पैरा वर्करों के 2322 पद भरने की प्रक्रिया आरंभ करेगी।  पैरा पंप ऑपरेटरों और पैरा फिटरों को 46 सौ प्रति माह और बहुउद्देशीय पैरा वर्करों को 3600 प्रति माह मानदेय दिया जाना है।

महेंद्र ने कहा कि नई भर्ती के बाद प्रदेश की करीब साढ़े पांच सौ पेयजल और सिंचाई योजनाओं की उचित देखभाल की जा सकेगी। इन परियोजनाओं का संचालन भी आसानी से किया जा सकेगा। उनका कहना है कि मंडल स्तर पर गठित कमेटियां इन पदों को शैक्षणिक योग्यता के आधार पर अंक देंगी और मेरिट पर तैनाती दी जाएगी।

हिमाचल में प्री-मानसून की दस्तक, 10 जिलों में इस तारीख तक अंधड़ व भारी वर्षा का अलर्ट जारी

हिमाचल प्रदेश में प्री-मानसून ने दस्तक दे दी है। प्री-मानसून के कारण शनिवार सुबह के समय आधे घंटे के तूफान ने प्रदेश में अधिकतर क्षेत्रों में काफी तबाही मचाई। बादलों की गर्जना व बिजली की कड़क के साथ आए तूफान से लोग भी भयभीत हो गए। तूफान के बाद बारिश भी हुई। तूफान से प्रदेश के कुछेक क्षेत्रों में घर की छतें तक उड़ गईं, वहीं कई इलाकों में इस दौरान बिजली भी गुल हो गई।

 

सेब बाहुल क्षेत्रों में तूफान का जबरदस्त कहर

शिमला जिला के ऊपरी सेब बाहुल क्षेत्रों में तूफान का जबरदस्त कहर देखने को मिला। आधे घंटे के तूफान ने विभिन्न स्थानों में सेब बगीचों को तबाह कर दिया। पौधों से सेब के फल नीचे गिर गए। अंधड़ से गुठलीधार फलों को भी भारी नुक्सान हुआ है। इससे किसानों और बागवानों के चेहरों पर चिंता की लकीरें हैं। अंधड़-बारिश से राज्य में कहीं से भी जानी नुक्सान की रिपोर्ट नहीं है।

16 तक मैदानी व मध्यपर्वतीय इलाकों में तूफान की संभावना

मौसम विभाग ने आगामी 16 जून तक मैदानी व मध्यपर्वतीय इलाकों में 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से अंधड़ चलने और भारी बारिश की चेतावनी दी है। 12 व 13 जून को इन इलाकों में ऑरेंज और 14, 15 व 16 जून को यैलो अलर्ट जारी किया है। मैदानों में 17 और मध्यपर्वतीय इलाकों में 18 जून को मौसम के साफ  होने की संभावना है। मौसम विभाग ने भारी बारिश व तूफान के कारण भू-स्खलन और पेड़ों के उखडऩे की आशंका जाहिर की है। विभाग ने लोगों व पर्यटकों को नदी-नालों के किनारे न जाने की सलाह दी है।

कहां कितनी हुई बारिश

मौसम विभाग के अनुसार पिछले 24 घंटों के दौरान पंडोह में सर्वाधिक 43 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। इसके अलावा बिझड़ी में 40, जाटन बैराज 36, पांवटा साहिब 33, मंडी 32, नारकंडा 28, जुब्बड़हट्टी 22, सराहन 21, बिलासपुर 18, पालमपुर व कुफरी 15-15 और शिमला में 14 मि.मी. बारिश दर्ज की गई। बारिश के कारण तापमान में गिरावट दर्ज की गई। शनिवार को प्रदेश के अधिकांश इलाकों में बादल छाए रहे।

तापमान पर एक नजर

शिमला में अधिकतम तापमान 24.8 डिग्री दर्ज किया गया, वहीं सुंदरनगर 33.9, भुंतर 32.8, कल्पा 22.6, ऊना 38, नाहन 29, सोलन 30.5, कांगड़ा 34.2, बिलासपुर 35, हमीरपुर 34.8, चम्बा में 34.1, डल्हौजी में 21.4 और केलांग में 23.6 डिग्री दर्ज किया गया। वहीं न्यूनतम तापमान की बात करें तो शिमला में 12.9, सुंदरनगर 18.2, भुंतर 17.9, कल्पा 10.1, धर्मशाला 18.4, ऊना 22.6, नाहन 20.7, केलांग 9, पालमपुर 16, सोलन 16.8, मनाली 15.6, कांगड़ा 21.3, मंडी 17, बिलासपुर 21, हमीरपुर 20.8, चम्बा 21.6, डल्हौजी 16.3, कुफरी 11.7, जुब्बड़हट्टी 14.6, पांवटा साहिब 24, कसौली 12.6, नारकंडा 8.4 और सराहन में 14.5 डिग्री दर्ज किया गया है।

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!