New guidelines : कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए हिमाचल सरकार ने लगाईं बंदिशें, जारी किए नए दिशा-निर्देश

Himachal Pradesh  में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने कई बंदिशें लगा दी हैं। इस संबंध में बीते दिनों Cabinet Meeting में फैसला लिया गया था। रविवार को अवकाश के दिन राज्य आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ ने इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं।

New guidelines
Coronavirus

सरकार की ओर से जारी अधिसूचना के अनुसार प्रदेश में 23 मार्च के बाद मेलों का आयोजन नहीं होगा। अभी जो मेले चल रहे हैं, वे हर हाल में 23 मार्च तक निपटाने होंगे। 25 मार्च के बाद सभी सामाजिक, सांस्कृतिक, शिक्षण, धार्मिक, राजनीतिक कार्यक्रमों और सार्वजनिक लंगर जिला प्रशासन की पूर्व अनुमति से ही आयोजित किए जा सकेंगे।

स्थानीय प्रशासन इस पर कड़ी नजर रखेगा ताकि नियमों की अवहेलना न हो। सभी सामाजिक, धार्मिक, खेल, मनोरंजन, शैक्षणिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में कुल क्षमता के 50 फीसदी लोगों को ही आने की अनुमति होगी या ऐसे कार्यक्रमों में 200 से ज्यादा लोग शिरकत नहीं करेंगे।

इंडोर कार्यक्रमों में क्षमता के 50 प्रतिशत लोग ही आ सकेंगे। वहीं, नो मास्क नो सर्विस के आदेश तुरंत प्रभाव से लागू किए गए हैं। मास्क न पहनने वालों पर भी गंभीरता से कार्रवाई करने के लिए कहा गया है। बसों, रेल, टैक्सियों में बिना मास्क सफर करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

इसके अलावा अस्पतालों, मंदिरों, लंगर सभागारों, स्कूल-कॉलेजों, सरकारी कार्यालयों, दुकानों, निजी कार्यालयों में बिना मास्क सेवाएं नहीं मिलेंगी। धाम, लंगर आदि में सेवाएं देने से पहले खाना बनाने और परोसने वाले स्टाफ को कोरोना टेस्ट करवाना होगा। बिना कोरोना टेस्ट और बंद परिसर/कमरे में लंगर लगाने पर रोक रहेगी।

New guidelines
Himachal Government

नए दिशा-निर्देशों को पंचायतों और शहरी नगर निकायों के साथ ही साझा किया जाएगा। इस दिशा-निर्देशों की अवहेलना पर नियमों के अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

अब्दुल्लापुर और जमानाबाद के मेले रद्द

वहीं कांगड़ा जिले के जमानाबाद और अब्दुल्लापुर पंचायत में प्रस्तावित दोनों मेले कोरोना की भेंट चढ़ गए हैं। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए मेले के आयोजनों को रद्द कर दिया गया है। दोनों पंचायतों के प्रतिनिधियों ने मेला कमेटियों के पदाधिकारियों के साथ जमानाबाद शिव मंदिर में संयुक्त बैठक कर मेले रद्द करने का फैसला लिया है।

पंचायतों में 24 और 25 मार्च को मेले प्रस्तावित थे, लेकिन अब सरकार की कोरोना को लेकर जारी बंदिशों को लेकर इसे स्थगित कर दिया गया है। बैठक में दोनों मेला कमेटियों के प्रधान व सदस्य उपस्थित रहे।

मेला कमेटी जमानाबाद के प्रधान फौजा सिंह ने बताया कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए मेले का आयोजन रद्द किया गया है। वहीं, अब्दुल्लापुर मेला कमेटी के प्रधान देसराज ने बताया कि महामारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए सरकार के आदेशों को मानते हुए इस बार फिर से दो दिवसीय छिंज मेला के आयोजन को रद्द किया गया है।

ग्राम पंचायत जमानाबाद के प्रधान कुलदीप सिंह ने बताया कि इस बार मेला स्थल अब्दुल्लापुर में सिर्फ झंडा रस्म और पूजा-अर्चना ही होगी। इस मौके पर करतार सिंह, स्वरूप सिंह, पूर्व प्रधान बबलेश कुमार, सुभाष चंद, ओम प्रकाश, अनिल, अशोक, अक्षय, अजय, वीर सिंह, कमलजीत सिंह, पूर्व सिंह, बलबवीर सिंह, निशांत कोटी व संदीप चौधरी मौजूद रहे।

सुजानपुर होली मेले के लिए झंडा रस्म अदा कर निभाई परंपरा

कोरोना की वजह से सरकार ने इस बार सुजानपुर होली मेले के आयोजन को रद्द कर दिया है लेकिन रविवार को झंडा रस्म अदा कर परंपरा को निभाया गया। राजपुरोहित आशुतोष शर्मा के मंत्रोच्चारण के बीच अजय पुवारी, अनिल पुवारी, अतुल पुवारी ने शिव शक्ति मंदिर में झंडा रस्म अदा की।

महाराजा संसार चंद के समय से चली आ रही परंपरा को पुवारी खानदान ने बरसों से कायम रखा है। अष्टमी पर्व पर होली मेले के शुभारंभ व सफल आयोजन को लेकर आयोजित की जाने वाली झंडा रस्म को रविवार को भी अदा किया गया। मेला रद्द होने की वजह से होली पर्व पर विकास के नाम पर की जाने वाली घोषणाओं पर भी इस बार पानी फिर गया है

 

WWW.NEXTEXAM.ONLINE

Leave a Reply

Top