हिमाचल: सिरमौर में फटा बादल, फसलें तबाह, कुल्लू में बाढ़ से सेब के बगीचों को नुकसान

हिमाचल प्रदेश में मौसम विभाग के अलर्ट के बीच भारी बारिश से कई जगह व्यापक नुकसान हुआ है। जिला सिरमौर की नाहन तहसील के एक गांव में सोमवार देर रात बादल फटने से पानी के तेज बहाव में जमीन बह गई हैं। फसलें भी तबाह हुई हैं। मनाली के पहाड़ों पर हल्की बर्फबारी से घाटी के मौसम में ठंडक बढ़ गई है। कुल्लू के बुरुआ गांव में नाले में बाढ़ आने से सेब के बगीचों को भारी नुकसान हुआ है। सोमवार रात से प्रदेश के कई क्षेत्रों में झमाझम बारिश जारी है।

भूस्खलन से छोटी-बड़ी दर्जनों सड़कें बंद हो गई हैं। खराब मौसम की वजह से सूबे में पानी और बिजली सप्लाई प्रभावित हुई है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने मंगलवार को प्रदेश के मध्य पर्वतीय जिलों शिमला, सोलन, सिरमौर, मंडी, कुल्लू, चंबा सहित कांगड़ा के कुछ क्षेत्रों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। 26 सितंबर तक प्रदेश में मौसम खराब बना रहने का पूर्वानुमान है।

नाहन तहसील की चाकली पंचायत के शील चामयाड़ गांव में बादल फटने से भारी नुकसान हुआ है। खेतों में खड़ी फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। ग्रामीण ज्ञानचंद, बाल किशन, राजेश व रामेश्वर ने बताया कि देर शाम ग्रामीणों की 18-20 बीघा उपजाऊ जमीन प्रभावित हुई है।

इसके साथ ही घरों को भी खतरा पैदा हो गया है। राजस्व विभाग की ओर से नुकसान का आकलन किया जा रहा है। बता दें, जिले में लगातार हो रही बारिश लोगों के लिए परेशानी का सबब बन रही है। जिले में पिछले 14 घंटे से लगातार भारी बारिश से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। जिला मुख्यालय नाहन सहित अन्य कई हिस्सों में भारी भूस्खलन जारी है। बारिश के बीच सड़कों पर मलबा गिरने से आवाजाही भी ठप पड़ गई है।

जिला कुल्लू में भारी बारिश दर्ज की गई है। कुल्लू-मनाली में सोमवार देर रात से बारिश हो रही है। मनाली के बुरुआ गांव के नाले में भारी बारिश से बाढ़ आ गई। इससे सेब केबगीचों को नुकसान पहुंचा है। वहीं, लोगों के घरों में मलबा आ गया है। सोमवार रात नाले में आई बाढ़ से अफरातफरी मच गई।

यही नहीं नाले में आई बाढ़ का पानी गांव की तरफ मुड़ गया। बड़े पत्थरों और मलबे के चलते फसलों को भी ्नुकसान हुआ। सूचना मिलते ही प्रशासन की टीम मौके लिए रवाना हुई। जिले में भूस्खलन से भी कई सड़क मार्ग अवरूद्ध हो गए हैं।

रोहतांग दर्रा, बारालाचा ला, कुंजंम पास सहित ऊंची चोटियों पर हिमपात हुआ है। हिमपात के बाद घाटी में तापमान में गिरावट आई है। उपायुक्त आशुतोष गर्ग ने बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया गया है। उन्होंने लोगों को नदी-नालों से दूर रहने को कहा है।

वहीं, कालका-शिमला नेशनल हाईवे पर भारी बारिश के कारण जगह-जगह भूस्खलन हुआ है। इससे वाहनों की आवाजाही बाधित हुई। प्रशासन की ओर से वाहन चालकों को एहतियात बरतने की सलाह दी गई है। फोरलेन कंपनी व एनएचएआई की टीम हाईवे की बहाली में लगी है। वहीं, राजधानी शिमला में भी भारी बारिश हुई है।

 

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!