गोवा मैरीटाइम कॉन्क्लेव (Goa Maritime Conclave) शुरू हुआ

वार्षिक गोवा मैरीटाइम कॉन्क्लेव (GMC-21) का तीसरा संस्करण 7 नवंबर, 2021 से गोवा में शुरू हुआ।

मुख्य बिंदु

  • इस कॉन्क्लेव में भारत हिंद महासागर क्षेत्र के 12 देशों के नौसेना प्रमुखों की मेजबानी करेगा।
  • GMC-21 में कार्य-स्तरीय विचार-विमर्श पर तीन दिवसीय सम्मेलन शामिल होगा, जो मई 2021 में गोवा समुद्री संगोष्ठी-21 (Goa Maritime Symposium-21) के दौरान भी हुआ था।

कॉन्क्लेव का एजेंडा

  • GMC-21 में, भारतीय नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह 12 हिंद महासागर के समुद्री देशों कोमोरोस, बांग्लादेश, मेडागास्कर, इंडोनेशिया, मालदीव, मलेशिया, म्यांमार, मॉरीशस, सिंगापुर, सेशेल्स, श्रीलंका और थाईलैंड के समुद्री बलों के प्रमुखों की मेजबानी करेंगे।
  • वे हिंद महासागर क्षेत्र में उभरती और भविष्य की समुद्री सुरक्षा चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए अंतरसंचालनीयता (interoperability) के महत्व पर चर्चा करेंगे।
  • GMC-21 का मुख्य भाषण रक्षा सचिव अजय कुमार और विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला द्वारा दिया जाएगा।
  • कॉन्क्लेव के हिस्से के रूप में, आगंतुकों को ‘मेक इन इंडिया प्रदर्शनी’ में भारत के स्वदेशी जहाज निर्माण उद्योग को देखने का अवसर मिलेगा।

कॉन्क्लेव के तीन सत्र

यह सम्मेलन तीन सत्रों में आयोजित किया जाएगा:

  1. गैर-पारंपरिक खतरों का मुकाबला करने के लिए सामूहिक समुद्री क्षमताएं
  2. समुद्री कानूनों को लागू करने वाले क्षेत्रीय सहयोग को मजबूत करने के लिए सत्र
  3. उभरते गैर-पारंपरिक खतरों को कम करने के लिए सत्र

GMC 21 की आधिकारिक थीम

GMC 2021 की थीम “Maritime Security and Emerging Non-Traditional Threats: A case for proactive role for Indian Ocean Region” है।

गोवा समुद्री संगोष्ठी-21 (Goa Maritime Symposium-21)

यह संगोष्ठी GMC-21 के लिए शेरपा कार्यक्रम था।

Goa Maritime Conclave
Goa Maritime Conclave.

हिंद महासागर क्षेत्र और GMC

हिंद महासागर क्षेत्र 21वीं सदी के सामरिक परिदृश्य का केंद्र बिंदु बन गया है। इस क्षेत्र में, GMC का उद्देश्य क्षेत्रीय हितधारकों को एक साथ लाना और इस क्षेत्र के लिए सहयोगी कार्यान्वयन रणनीतियों पर चर्चा करना है।

Author: बोलता हिमाचल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *