हिमाचल में नॉन पेंशनर पूर्व सैनिकों को 2.09 करोड़ की वित्तीय मदद

हिमाचल प्रदेश सरकार ने दूसरे विश्व युद्ध में भाग लेने वाले और अन्य नॉन पेंशनर पूर्व सैनिकों को दो करोड़ नौ लाख सत्तर हजार रुपये की वृद्धावस्था वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाई है। यह वित्तीय सहायता एक वर्ष में इन नॉन पेंशनरों को दी गई है।

हिमाचल में नॉन पेंशनर

प्रदेश सरकार सूबे के नॉन पेंशनर पूर्व सैनिकों को यह सहायता देती है। दूसरे विश्व युद्ध में भाग लेने वाले 55 नॉन पेंशनरों को दस-दस हजार और अन्य 933 पूर्व सैनिकों व विधवाओं को तीन-तीन हजार प्रतिमाह राशि दी गई है।

द्वितीय विश्व युद्ध में भाग लेने वाले सैनिकों की विधवाओं को पांच हजार प्रतिमाह सहायता दी गई है। इसके अलावा प्रदेश सरकार ने एक वर्ष  में शहीद हुए सूबे के नौ पूर्व सैनिकों के परिजनों को एक करोड़ पांच लाख रुपये का अनुग्रह अनुदान दिया है।

हिमाचल में नॉन पेंशनर

इनमें से बैटल कैजुअलटी पर 20-20 लाख, जबकि ड्यूटी के दौरान बीमारी से मौत पर पांच-पांच लाख रुपये दिए। वीरता अवार्ड विजेता 162 सैनिकों को 30.29 लाख रुपये दिए गए हैं। पूर्व सैनिक के निधन पर सात हजार रुपये फौरी राहत राशि दी जाती है।

सूबे के 236 पूर्व सैनिकों की मृत्यु पर बीते एक वर्ष में परिजनों ने यह सहायता राशि ली है। सैनिक कल्याण विभाग के उपनिदेशक स्क्वाड्रन लीडर मनोज राणा ने कहा कि प्रदेश सरकार ने सैनिकों व पूर्व सैनिकों के लिए कई योजनाएं चला हैं। इनमें से नॉन पेंशनरों को वृद्धावस्था वित्तीय सहायता व अनुग्रह अनुदान भी शामिल है।

एक वर्ष में यह राशि सहायता स्वरूप दी गई है। केंद्रीय सैनिक बोर्ड के सौजन्य से भी अन्य कई योजनाएं पूर्व सैनिकों के लिए चलाई गई हैं। लाभार्थी इनके लिए आवेदन कर लाभ ले सकते हैं। 

Leave a Reply

Top