पालमपुर का शर्मनाक वाकया, बुलाने पर भी संस्कार को कोई नहीं आया

कोरोना से संक्रमित अपनी मां के देहांत से दुखी एक बेटा अपने पड़ोसियों-रिश्तेदारों को फोन करता रहा, लेकिन कोई भी उसकी मां के अंतिम संस्कार के लिए आगे नहीं आया। यह वाकया पालमपुर के निकटवर्ती  इलाके का है। गौर हो कि वैश्विक महामारी कोरोना से लोग इतने भयभीत हो गए हैं कि इस संकट की घड़ी में एक-दूसरे की मदद करने के बजाय मुंह छुपा रहे हैं।

हालांकि इस संकट काल में कोविड के नियमों का पालन करते हुए हमें लोगों की मदद करनी चाहिए, लेकिन लोग ऐसा नहीं कर रहे हैं। यहां आए एक मामले के अनुसार एक मां अस्पताल में उपचाराधीन थी। इलाज के दौरान मां की मौत हो गई।

बेटा भी कोरोना से संक्रमित था। अपनी मां के देहांत की सूचना मिलने के बाद बेटे ने अपने रिश्तेदारों व पड़ोसियों को कहा कि उसकी मां दुनिया छोड़ चुकी है तथा उसके दाह संस्कार के लिए उसकी मदद करें, लेकिन न तो कोई पड़ोसी उनके घर पहुंचा और न ही कोई रिश्तेदार वहां आया। हालांकि एक दोस्त जरूर उसकी मदद के लिए पहुंच गया।

बाद में इस मामले की सूचना जिला कांगड़ा के आयुक्त राकेश प्रजापति को दी गई। इसके बाद जिलाधीश ने संज्ञान लेते हुए तुरंत पालमपुर के एसडीएम को इसके लिए दिशा-निर्देश जारी किए। इस पर पालमपुर प्रशासन ने हरकत में  आते हुए कुछ वालंटियर भेजे,  जिन्होंने उस दुखी बेटे की मां का दाह संस्कार करवाया।

 

Leave a Reply

Top