अलर्ट का असर: मनाली में 60 तो शिमला में घटे 10 फीसदी पर्यटक

केंद्र सरकार के कोरोना अलर्ट का असर काम कर गया है। मनाली में 60 तो शिमला में 10 फीसदी पर्यटक घट गए हैं। इस वीकेंड मैदानी राज्यों की गर्मी से राहत पाने कम संख्या में सैलानी हिमाचल प्रदेश में पहुंचे। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव ने विगत 6 जुलाई को प्रेस वार्ता कर प्रदेश सरकार को पर्यटन स्थलों पर कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर नियमों का पालन न होने पर आगाह किया था। दोबारा बंदिशें लगाने पर भी चेताया था।

कोरोना की बंदिशों में छूट मिलने के बाद बीते तीन वीकेंड के दौरान प्रदेश के पर्यटन स्थलों के होटलों में ऑक्यूपेंसी फुल रही। भारी संख्या में बाहरी राज्यों के लोग शिमला, मनाली, डलहौजी, धर्मशाला और कसौली सहित अन्य क्षेत्रों में पहुंचे। इसी बीच सोशल मीडिया पर मनाली और शिमला में कोरोना संक्रमण से बचाव को तय नियमों का पालन न होने को लेकर फोटो वायरल हुई। इस पर स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव ने कड़ा संज्ञान लेते हुए 6 जुलाई को नई दिल्ली में प्रेस वार्ता कर प्रदेश सरकार को चेताया।

संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा था कि हिल स्टेशनों की यात्रा कर रहे लोग कोविड उपयुक्त व्यवहार का पालन नहीं कर रहे हैं। बीते दिनों हुई कैबिनेट बैठक में मुख्यमंत्री ने इस पर चिंता जताते हुए उपायुक्तों और पुलिस अधीक्षकों को सख्ती बरतने के निर्देश दिए।

नियमों का पालन न करने वालों पर कार्रवाई करने को भी कहा। इसके चलते अब शनिवार को बीते सप्ताह के मुकाबले शिमला और मनाली आने वाले सैलानियों की संख्या में कमी आई है। मनाली के होटलों में ऑक्यूपेंसी घटकर 40 और मणिकर्ण में 50 फीसदी रह गई है। हालांकि शिमला के होटलों में शनिवार को आक्यूपेंसी 90 फीसदी तक रही।

सोशल मीडिया में भीड़ दिखाने से कारोबारी नाराज, डीसी से मिले

सोशल मीडिया में पर्यटकों की भीड़ दिखाने से मनाली के होटल कारोबारी नाराज हो गए हैं। शनिवार को उपायुक्त कुल्लू के साथ बैठक में मनाली होटलियर एसोसिएशन के अध्यक्ष अनूप राम ठाकुर ने कहा कि कुछ लोग मनाली के पुराने फोटो सोशल मीडिया में डालकर भ्रमित कर रहे हैं। मनाली के होटलों में ठहरने को जगह नहीं बची है, जबकि अभी होटलों में केवल 30 से 35 प्रतिशत कमरे ही बुक हो पाए हैं। मालरोड करीब 200 मीटर लंबा है।

इसमें पर्यटक शाम को घूमना, खाना-पीना और खरीदारी करना पसंद करते हैं। मालरोड पर पर्यटकों की कम संख्या भी भीड़ की दिखती है। रोहतांग दर्रा पर वाहनों के दबाव को कम करने के लिए हामटा सड़क, मनाली के मुख्य बाजार को वोल्वो बस स्टैंड से जोड़ने वाली सड़क को सुधारने और नियमों का पालन करवाने के लिए पुलिस की गश्त बढ़ाने की जरूरत है। उपायुक्त कुल्लू ने आश्वासन दिया कि अनाधिकृत तौर पर अपने घरों, हट्स आदि में पर्यटकों को ठहराने और सोशल मीडिया पर दुष्प्रचार करने वालों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Top