न हो डाक कर्मियों की अनदेखी, कोविड वैक्सीन की अधिसूचना में शामिल न होने पर खफा

हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा प्राथमिकता पर कोविड वैक्सीन लगाने की जारी अधिसूचना में डाक कर्मचारियों को नजर अंदाज किया गया है। यह आरोप अखिल भारतीय डाक कर्मचारी संघ शिमला ने लगाया है। 

कर्मचारी संघ ने कहा कि डाक कर्मचारी लगातार अपनी सेवाएं देश व प्रदेश के लोगों को दे रहे हैं। हिमाचल प्रदेश सरकार ने इस सूची में सभी बैंक कर्मियों को शामिल किया है, मगर डाक कर्मचारियों को भूल गए, जबकि बैंक और डाक कर्मचारी देश व प्रदेश के लोगों को एक जैसी वित्तीय सेवाएं देते आ रहे हैं।

अखिल भारतीय डाक कर्मचारी संघ शिमला हिमाचल प्रदेश के सचिव पुरुषोत्तम चौहान ने कहा कि बड़े मजे की बात तो यह है कि इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के कर्मचारी इस सूची में शामिल होंगे, जबकि यह कर्मचारी और डाक कर्मचारी एक ही छत के नीचे साथ बैठकर लोगों को सेवाएं दे रहे हैं।

 

हिमाचल प्रदेश के सभी डाकघरों के पोस्टमैन इस महामारी में प्रदेश सरकार द्वारा जारी की गई वृद्धावस्था पेंशन व अन्य सामाजिक पेंशन का वितरण घर द्वार पर कर रहे हैं। इसके अतिरिक्त लोगों को इस महामारी में जीवनदायिनी दवाइयों का वितरण व अन्य डाक वस्तुओं का वितरण बिना ब्रेक के घर द्वार पर कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि  इस महामारी में आज भी डाक कर्मचारी लोगों को सभी वित्तीय सेवाओं के साथ-साथ सामाजिक पेंशन आबंटन, जरूरतमंद लोगों को आईईपीएस के माध्यम से घर बैठे उनके खातों से निकासी और जमा करने की सुविधा प्रदान कर रहा है। संघ ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से आग्रह किया हैं कि प्रदेश के डाक कर्मचारियों को वह न्याय व सम्मान मिले, जो अन्य फ्रंटलाइन कोविड वॉरियर को मिल रहा है।

विकास कार्यों के लिए मंत्री जवाबदेह, घोषणाओं को धरातल पर उतारने के लिए तय की गई जिम्मेदारी

Leave a Reply

Top