CM Jairam

ग्रामीण क्षेत्रों में कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग पर विशेष ध्यान केंद्रित करें डीसी : जयराम

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने प्रदेश में कोविड-19 मामलों में अचानक आई वृद्धि को देखते हुए राज्य के सभी डीसी को विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग पर ध्यान केंद्रित करने का निर्देश दिए। सीएम शिमला से वीडियो कॉन्फ्रैंसिंग के माध्यम से डीसी और एसपी के साथ कोविड-19 स्थिति की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में कोरोना संक्रमण के लगभग 2,700 सक्रिय मामले हैं जोकि चिंता का विषय है।

CM Jairam
Corona review meeting himachal

उन्होंने कहा कि प्रदेश में पर्याप्त ऑक्सीजनयुक्त और सामान्य बिस्तर, ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, परीक्षण किट और वैंटीलेटर हैं और 28 अतिरिक्त पीएसए संयंत्र स्थापित करने का कार्य प्रगति पर है। इसके अलावा 8 पीएसए संयंत्रों पर कार्य पहले ही पूरा हो चुका है तथा 31 अगस्त तक 10 और पीएसए संयंत्रों के कार्य पूर्ण हो जाएंगे।

नवम्बर तक होगा सभी लोगों का टीकाकरण

जयराम ठाकुर ने कहा कि नवम्बर तक राज्य के सभी लोगों का टीकाकरण कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि अब तक हमीरपुर, कुल्लू, बिलासपुर, किन्नौर और लाहौल-स्पीति जिले में शत-प्रतिशत लोगों को कोविड-19 वैक्सीन की पहली डोज मिल चुकी है।

इसके अलावा 10 दिनों के भीतर 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों का टीकाकरण करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य में 29 फीसदी लोगों ने अब तक दूसरी डोज ली है तथा टीकाकरण अभियान में शून्य फीसदी बर्बादी के साथ प्रदेश ने बेहतर प्रदर्शन किया है।

सेब सीजन में मजदूरों की जांच होगी

मुख्यमंत्री ने कुल्लू, मंडी, शिमला, चम्बा और किन्नौर में जिला प्रशासन को निर्देश दिए हैं कि सेब सीजन में आने वाले मजदूरों की जांच की विशेष व्यवस्था की जाए। उन्होंने जिलाधीशों को पीएसए संयंत्रों की स्थापना के लिए सिविल और विद्युत कार्यों की निगरानी करने के निर्देश भी दिए ताकि मरीजों को यह सुविधा शीघ्र उपलब्ध करवाई जा सके। उन्होंने कहा कि सीमा और अन्य क्षेत्रों में चैकिंग की व्यवस्था को मजबूत किया जाएगा। उन्होंने इस बात पर भी बल दिया कि जिलों को सेब सीजन के दौरान सड़कों के रखरखाव और वाहनों के सुचारू संचालन की तैयारी पर ध्यान देना चाहिए।

पंचायत व उपमंडल स्तर पर टीमें होंगी सक्रिय

मुख्य सचिव रामसुभग सिंह ने इस दौरान कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड-19 के बढ़ते मामलों को ध्यान में रखते हुए हुए पंचायतों और उपमंडल स्तर की टीमों को और अधिक सक्रिय किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 10-12 पंचायतों में निगरानी के लिए एक कोविड अधिकारी को तैनात किया जाएगा। पुलिस महानिदेशक संजय कुंडू, सचिव स्वास्थ्य अमिताभ अवस्थी और प्रधान सचिव राजस्व केके पंत सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

error: Content is protected !!