Corona Curfew: हिमाचल प्रदेश में कोरोना कर्फ्यू 26 तक बढ़ा, हार्डवेयर पर राहत

हिमाचल प्रदेश में कोरोना कर्फ्यू अगले 10 दिन के लिए बढ़ाने का फैसला लिया गया है। इसके तहत कोरोना कर्फ्यू की बंदिशें 26 मई तक जारी रहेगी। हालांकि अब हार्डवेयर की दुकानों को सप्ताह में दो दिन तीन घंटे खोलने की छूट दी गई है। जिलों में पहले से निर्धारित तीन घंटे की समयावधि के बीच ही हार्डवेयर की दुकानें खुलेगी।

 

इसके अलावा कोरोना मृतकों के अंतिम संस्कार के लिए वन निगम के डिपो में निःशुल्क लकड़ी मिलेगी। शनिवार को हिमाचल मंत्रिमंडल की बैठक में पारित इन आदेशों को लेकर राज्य आपदा प्रबंधन ने नई गाइडलाइंस भी जारी कर दी है। इसमें शादी समारोह पर सख्त पाबंदियों के दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।

 

ताजा आदेशों में स्पष्ट किया गया है कि शादी समारोह अब मैरिज पैलेस-कम्युनिटी हॉल सहित किसी भी किराए के भवन में आयोजित नहीं होंगे। इनमें डीजे, बैंड-बाजा, बारात की किसी भी सूरत में अनुमति नहीं होगी। शादियों पर अब सबसे बड़ी पाबंदी घरों के भीतर इसके आयोजन की शर्त लगा दी गई है।

 

इससे पहले मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में आयोजित राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में राज्य में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा की गई। इस दौरान कोविड-19 मामलों में हो रही वृद्धि पर चिंता व्यक्त की। इस वायरस के संक्रमण की कड़ी को तोड़ने के लिए मंत्रिमंडल ने पूरे प्रदेश में कोरोना कर्फ्यू को 26 मई को सुबह छह बजे तक बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। बैठक में कामगार और श्रमिकों के पलायन को रोकने के लिए निर्माण सामग्री से संबंधित सभी दुकानों को सप्ताह में मंगलवार और शुक्रवार को तीन घंटे के लिए खुला रखने का निर्णय लिया गया।

 

 मंत्रिमंडल ने सभी चिकित्सा महाविद्यालयों, क्षेत्रीय, आंचलिक अस्पतालों और 200 से अधिक बिस्तरों की क्षमता वाले अस्पतालों को शव वाहन किराए पर लेने की अनुमति प्रदान की। बैठक में यह भी निर्णय लिया कि वन विभाग वन अधिकार लागू क्षेत्र में कोरोना संक्रमितों के दाह संस्कार के लिए निःशुल्क लकड़ी उपलब्ध करवाएगा और वन निगम अन्य क्षेत्रों में लकड़ी उपलब्ध करवाएगा।

सभी नगर निगमों को शव वाहन किराए पर लेने की अनुमति होगी। बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि किसी भी विवाह के लिए मैरिज पैलेस, सामुदायिक हॉल, टेंट हाउस, आउटसाइड कैटरिंग और डीजे/बैंड को किराए पर लेने की अनुमति नहीं होगी। विवाह कार्यक्रम केवल घरों या न्यायालय में 20 लोगों की पाबंदी के साथ ही संपन्न होंगे। विवाह कार्यक्रम के दौरान बारात की भी अनुमति नहीं होगी।

NPS कर्मचारियों ने काले रिबन बांध मनाया ब्लैक-डे, पुरानी पैंशन बहाली की उठाई मांग

Leave a Reply

Top