अर्की भाजपा में ब्लास्ट, बंजार में भूचाल; उपचुनाव को गोविंद शर्मा ने ठोंकी ताल, हितेश्वर सिंह ने भी भरी हुंकार

अर्की भाजपा में बड़ा विस्फोट हो गया है। दाड़लाघाट में मित्र-मिलन के बहाने जहां पूर्व विधायक गोविंद राम शर्मा व उनके समर्थकों ने मंच से उपचुनाव के लिए टिकट की मांग करके पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया, वहीं शक्ति प्रदर्शन करके ऐन वक्त पर भाजपा आलाकमान के लिए भी संकट पैदा कर दिया है।

रविवार को दाड़लाघाट में अर्की कल्याण संस्था की बैठक रखी गई थी। कुछ ही क्षणों में बैठक ने राजनीतिक रंग ले लिया तथा उपचुनाव के लिए भाजपा की ओर से गोविंद राम शर्मा के लिए उपस्थित नेताओं ने टिकट की मांग कर दी। बैठक में स्टाइलिश अंदाज़ में गोविंद राम शर्मा ने अपना दुखड़ा भी रोया तथा यह भी चेताया कि उनकी अनदेखी सरकार पर भारी पड़ सकती है।

बता दें अर्की कल्याण संस्था ने रविवार को दाड़लाघाट में अपने स्थापना दिवस पर सम्मेलन का आयोजन किया। इस अवसर पर अर्की के पूर्व विधायक गोविंद राम शर्मा बतौर मुख्यातिथि उपस्थित रहे। संस्था का यह सम्मेलन कुछ ही पलों में राजनीतिक रंग में डूब गया और वहां उपस्थित लोगों ने खुलकर पूर्व विधायक गोविंद राम शर्मा को अर्की से भाजपा का टिकट दिए जाने की पैरवी कर दी।

संस्था के सदस्यों ने गोविंद राम शर्मा को भाजपा का टिकट दिए जाने की पैरवी करते हुए कहा कि अगर उन्हें टिकट नहीं मिलता है तो संस्था अपना एक उम्मीदवार मैदान में उतारेगी। सम्मेलन को संबोधित करते हुए जिला परिषद सदस्य आशा परिहार ने कहा कि पूर्व विधायक गोविंद राम शर्मा जैसे सक्रिय नेताओं की आज अनदेखी की जा रही है।

जिला परिषद सदस्य अमर सिंह ठाकुर ने कहा कि अर्की क्षेत्र की जनता पूर्व विधायक गोविंद राम शर्मा के साथ खड़ी है। इनके अलावा अमर नाथ कौशल व सुरेंद्र ठाकुर ने भी गोविंद राम शर्मा को अर्की से सशक्त उम्मीदवार बताया। सम्मेलन में मौजूद लोगों की बात सुनकर पूर्व विधायक गोविंद राम शर्मा भी भावुक हो गए और उन्होंने भी खुलकर अपना गुव्वार निकाला। उन्होंने कहा कि उन्हें नजरअंदाज़ किया गया है। भाजपा सरकार बनने के बाद उन्हें न तो किसी बोर्ड व निगम का अध्यक्ष बनाया न उपाध्यक्ष। (एचडीएम)

सियासी हलचल तेज

पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के निधन के बाद अर्की में भी संभावित उपचुनाव को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गई हैं। भाजपा की ओर से पूर्व प्रत्याशी रहे रत्न पाल एक बार फिर टिकट के प्रबल दावेदार माने जा रहे हैं, वहीं दो बार के विधायक रहे गोविंद राम शर्मा भी टिकट की चाह रखते हैं। इस बीच दाड़लाघाट में हुए घटनाक्रम ने अर्की की राजनीति में भूचाल ला दिया है।

यह भी रहे मौजूद

सम्मेलन में पूर्व विधायक गोविंद राम शर्मा, संयोजक सुरेंद्र ठाकुर, जिला परिषद सदस्य आशा परिहार, अमर सिंह ठाकुर, अमर नाथ कौशल, बालक राम शर्मा, परमिंदर वर्मा, एसके पाल, जीत राम ठाकुर, नरेंद्र सिंह चौधरी, धर्मपाल धर्मा, जितेंद्र, नरेश गौतम, अजीत, नरेंद्र हांडा, राम जी वर्मा, गीता राम कौशल, हेमराज शर्मा आदि भी उपस्थित रहे।

बोह घाटी : मलबे में दफन अंतिम शव भी रेस्क्यू, सभी लोगों के शव बरामद, तीन दिन से तलाश कर रही थी टीम

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!