HP TOP 10 NEWS | 16 OCTOBER 2020 | HP NEWS IN HINDI

धर्मशाला से होशियारपुर व पठानकोट के लिए बस सेवा शुरू, जालंधर के लिए भी रवाना होगी गाड़ी,

(HP TOP 10 NEWS)

एचआरटीसी के धर्मशाला डिपो से होशियारपुर व पठानकोट के लिए भी बस सेवाएं शुरू हो गई हैं। धर्मशाला से होशियारपुर के लिए सुबह 9:40 पर बस चली, जबकि पठानकोट के लिए सुबह 11:30 बजे बस रवाना हुई। वहीं शुक्रवार से धर्मशाला से जालंधर के लिए भी नई बस सेवा शुरू हो जाएगी। बुधवार से शुरू हुई अंतर राज्य रूटों पर बस सेवा के तहत धर्मशाला शिमला बाया चंडीगढ़ रूट में सवारियों के उत्साह को देखते हुए धर्मशाला डिपो ने दो और बस रूट शुरू कर दिए हैं, जबकि तीसरी बस शुक्रवार से चलाई जाएगी।

HP TOP 10 NEWS

एचआरटीसी के धर्मशाला डिपो के क्षेत्रीय प्रबंधक पंकज चड्ढा का कहना है धर्मशाला से होशियारपुर के लिए वाया कांगड़ा, जबकि पठानकोट के लिए वाया चड़ी चडी बस सेवा शुरू की गई है। इन सभी बसों की वापसी भी शाम के समय निर्धारित कर दी गई है। धर्मशाला-होशियापुर रूट पर गई बस की वापसी शाम 4:15 बजे होगी, जबकि पठानकोट रूट पर गई बस की वापसी शाम को 4:00 बजे होगी। उन्होंने बताया धर्मशाला जालंधर रूट पर शुक्रवार से सुबह 4:30 बजे बस सेवा शुरू होगी, जो शाम 4:20 पर धर्मशाला लौटेगी।

कुंजेश्‍वर महादेव मंदिर के पास ब्‍यास नदी से सरकाघाट की महिला का शव बरामद, सुजानपुर में बेटी के पास आई थी

लंबागांव के कुंजेश्‍वर महादेव मंदिर के पास ब्यास नदी मे वीरवार सुबह पानी से महिला का शव बरामद हुआ। महिला की पहचान 65 वर्षीय बालो देवी पत्नी शंभू राम निवासी गांव संदेहडा डाकघर खोदा तहसील सरकाघाट जिला मंडी के रूप मे हुई है। शव सड़ गल गया है। लंबागांव के कुंजेश्‍वर महादेव मंदिर के पास ब्यास नदी में नाव चलाने वाले मोनू नाम के युवक ने वीरवार सुबह पानी में लाश देखी। जिस पर उसने लंबागांव पुलिस को सूचित किया। लंबागांव पुलिस के एएसआइ जसवंत राठौर ने मौके पर जाकर शव को अपने कब्जे में ले लिया व जिला कुल्लू ,मंडी व जिला हमीरपुर में पडऩे वाले सभी थानों को इस संबध में सूचना दी।

शिनाख्त करने पर शव जिला मंडी के सदेहडा गांव की बालो देवी का पाया गया। बालो देवी की मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी। जिस कारण उसे उसकी लड़की राजकुमारी गांव कुडाणा डाकघर जंगलबैरी तहसील सुजानपुर अपने घर ले आई थी। बालो देवी पांच दिन से लापता थी। जिसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट उसकी बेटी ने सुजानपुर पुलिस थाने में दर्ज करवाई थी। लंबागांव पुलिस ने शव शिनाख्त हो जाने के बाद पोस्टमार्टम के लिए टांडा भेज दिया है। मामले की पुष्टि पुलिस थाना लंबागांव प्रभारी अश्विनी शर्मा ने की है।

कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेताओं ने एक मंच पर आकर साधा सरकार पर निशाना, भ्रष्‍टाचार के आरोप लगाए,

कांग्रेस वरिष्ठ नेताओं ने एक मंच पर आकर भाजपा सरकार पर निशाना साधा है। इन्‍होंने आरोप लगाया कि जयराम सरकार में भ्रष्टाचार, बेरोजगार, अवैध खनन बढ़ा है। पूर्व मंत्री ठाकुर कौल सिंह, जीएस बाली, विप्लव ठाकुर, चंद्र कुमार ने धर्मशाला में पत्रकारों से बातचीत के दौरान आरोप लगाया कि विकास कार्य सिफर हो गए हैं। सरकार कर्ज पर चल रही है। राजस्व न के बराबर रह गया है।

स्वास्थ्य विभाग में करोड़ों रुपये के घोटाले हुए हैं। जयराम ठाकुर बताएं कि राजीव बिंदल ने इस्तीफा क्यों दिया। मंत्रियों पर जमीनें खरीदने के आरोप लग रहे हैं। जल शक्ति विभाग को मंत्री अपनी मर्जी से चला रहे हैं। मंत्री ने अपने विधानसभा क्षेत्र के लोगों की भी नियुक्तियां करवा दीं। जमीन खरीद मामले और जलशक्‍त‍ि विभाग में नियुक्तियों की जांच की जाए। ऑक्सीमीटर और मास्क खरीदने में लाखों रुपये की हेराफेरी हुई है। इसकी जांच की जाए।

केंद्र में मोदी सरकार देश को निजी हाथों में बेच रही है। रेलवे को भी पूंजीपतियों के हवाले किया जा रहा है। मोदी ने नोटबंदी व जीएसटी से लाखों लोगों को बेरोजगार कर दिया है। कांग्रेस एकजुट है और किसान, युवा विरोधी सरकार से जनता की जंग लड़ेगी। इस मौके पर जिला व स्‍थानीय अन्‍य नेता भी मौजूद रहे।

 

हिमाचल कांग्रेेस अध्‍यक्ष बोले, रोहतांग टनल की शिलान्यास पट्टिका सुरक्षित तो क्यों नहीं की स्थापित,

HP TOP 10 NEWS

हिमाचल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने अटल टनल रोहतांग से कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी की शिलान्यास पट्टिका को स्थापित न करने पर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है। उन्‍होंने सरकार से सवाल किया कि बीआरओ ने इस पट्टिका के सुरक्षित रखने की बात कबूली है तो अब उसे कब पुन स्‍थापित किया जाएगा। उन्होंने कहा कांग्रेस इसे कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं बनाना चाहती, पर अगर उसे निश्चित समय पर पुनस्थापित नहीं किया जाता तो सरकार कांग्रेस के किसी भी आंदोलन से निपटने को तैयार रहें। इसकी पूरी जिम्मेदारी सरकार की होगी।

कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में पत्रकारों से बातचीत में कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने प्रदेश सरकार की आलोचना करते हुए कहा वह इतिहास से छेड़छाड़ कर रहे हैं। उन्होंने कहा रोहतांग टनल का शिलान्यास सोनिया गांधी ने 28 जून 2010 को किया था। उनके इस शिलान्यास को वहां से हटाना लोकतंत्र की मर्यादा का हनन है। उनकी शिकायत के बाद कम से कम बीआरओ ने माना तो सही की शिलान्यास पट्टिका उनके पास है, उन्होंने बीआरओ से भी पूछा कि वह बताएं उन्होंने यह पट्टिका किसी के आदेश से निकाली थी और अब वह इसे कब पुन स्थापित करने के लिए किस का आदेश चाहते हैं।

पसंद का स्कूल न मिलने से ज्वाइनिंग देने में आनाकानी कर रहे प्रधानाचार्य,

प्रदेश शिक्षा विभाग ने स्कूल प्रधानाचार्य पद पर पदोन्नत शिक्षकों की अधिसूचना तो जारी कर दी, लेकिन पदोन्नत प्रधानाचार्यों ने पसंद का स्टेशन न मिलने और जिले से बाहर दूरदराज के स्कूलों के लिए जारी तबादला आदेशों को मानने से इनकार कर दिया है। प्रदेश के करीब 39 प्रधानाचार्य दूरदराज के स्कूलों में ज्वाइनिंग देने से आनाकानी कर रहे हैं।

राजनीतिक संबंधों के चलते शिक्षा विभाग पर तबादला आदेश बदलने का दबाव भी डाला जा रहा है। ऐसे में शिक्षा विभाग ने प्रधानाचार्य पद पर पदोन्नत हुए करीब 3 दर्जन से अधिक शिक्षकों के ज्वाइनिंग ऑर्डर में संशोधन कर दिया है। हैरानी की बात है कि कुछ पदोन्नत प्रधानाचार्यों को 31 अक्तूबर, कुछ को 30 नवंबर तो कुछ को 31 दिसंबर के बाद ज्वाइनिंग के संशोधित आदेश जारी किए गए हैं।

तीन दर्जन से अधिक हेडमास्टर और स्कूल लेक्चरर अब पदोन्नति की अधिसूचना के 2 से 3 माह में पसंद के स्कूलों में प्रधानाचार्य का पद खाली होने के बाद ही वहां कुर्सी संभालेंगे। मासिक वेतन भी प्रधानाचार्य के बजाय हेड मास्टर और स्कूल लेक्चरर कैडर लेने को तैयार हैं। शिक्षा विभाग के संशोधन के कारण संबंधित 39 स्कूलों में प्रधानाचार्य के पद खाली रहेंगे।

प्रदेश शिक्षा विभाग ने 29 सितंबर को 289 स्कूल हेडमास्टर और 241 स्कूल लेक्चरर समेत करीब 530 शिक्षा अधिकारियों की स्कूल प्रधानाचार्य पद पर पदोन्नति की अधिसूचना जारी की थी। 39 पदोन्नत स्कूल प्रधानाचार्य की नियुक्ति का मामला अब अधर में लटक गया है। उधर, प्रदेश शिक्षा विभाग के संयुक्त सचिव नवनीत कपूर ने कहा कि 39 पदोन्नत स्कूल प्रधानाचार्य के संशोधित आदेश जारी कर दिए हैं।

कुल्लू दशहरा: उत्सव में देवताओं के निशान नहीं, सात देवरथ आएंगे,

अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा 25 अक्तूबर से शुरू होगा। इस सात दिवसीय उत्सव में भगवान रघुनाथ की भव्य रथयात्रा में सात देवी-देवताओं के निशान नहीं, बल्कि देवताओं के रथ ही शामिल होंगे। खराहल घाटी के आराध्य बिजली महादेव, राजपरिवार की दादी कही जाने वाली माता हिडिंबा, खोखण के आदि ब्रह्म, पीज के जमदग्नि ऋषि, रैला के लक्ष्मी नारायण, राजपरिवार की कुल देवी नग्गर की माता त्रिपुरा सुंदरी और ढालपुर के देवता वीरनाथ के रथ दशहरा में शामिल होकर परंपरा का निर्वहन करेंगे।




बुधवार को प्रशासन के साथ लंबी बैठक के बाद कारदारों ने यह निर्णय लिया है। इससे पहले दशहरा उत्सव कमेटी की बैठक में देवताओं के निशान लाने पर सहमति बनी थी। देवताओं के कारदारों ने बुधवार को उपायुक्त के साथ बैठक की। इसमें काफी देर तक चर्चा हुई। आखिर में यह निष्कर्ष निकला कि पहले से ही निर्धारित इन देवताओं के रथ दशहरा में शामिल होंगे।

इन देवताओं के कारदार अपने क्षेत्र में बैठक करेंगे। इसके बाद प्रशासन को देवता की ओर से दशहरे में शामिल वाले देवलुओं की सूची दी जाएगी। इन सभी के कोरोना टेस्ट भी किए जाएंगे। देवताओं के कारदारों की ओर से सुनिश्चित किया गया है कि वे सोशल डिस्टेंसिंग और कोरोना नियमों का पालन करेंगे। बिजली महादेव के कारदार अमरनाथ नेगी ने कहा कि दशहरा उत्सव में सात देवताओं के रथ आने को लेकर सहमति बनी है। अब हारियानों के साथ बैठक होगी।

मिड-डे मील वर्करों ने वेतन बढ़ोतरी, नियमितीकरण मांगा,

ऑल इंडिया मिड-डे मील वर्कर फेडरेशन संबंधित सीटू के आह्वान पर हिमाचल के कई जिला और ब्लॉक मुख्यालयों में मिड-डे मील वर्करों ने धरना प्रदर्शन किया। शिमला में प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय के बाहर राज्यस्तरीय प्रदर्शन हुआ। यूनियन की प्रदेशाध्यक्ष कांता महंत व महासचिव हिमी देवी ने कहा कि केंद्र व प्रदेश सरकार लगातार शोषण कर रही है। उन्हें केवल 2300 रुपये मासिक वेतन दिया जा रहा है।

HP TOP 10 NEWS

कोई भी छुट्टी नहीं दी जाती है। ईपीएफ व मेडिकल सुविधा नहीं है। खाना बनाने के अलावा डाक, चपरासी, सफाई, झाड़ू, राशन ढुलाई, बैंक व जलवाहक आदि सभी कार्य करवाए जाते हैं। बावजूद इसके उन्हें मल्टी टास्क वर्कर्स की भर्तियों में प्राथमिकता नहीं दी जा रही है। वर्ष 2013 के 45वें श्रम सम्मेलन की सिफारिश के अनुसार नियमित कर्मचारी का दर्जा नहीं दिया जा रहा है। उच्च न्यायालय के निर्णयानुसार उन्हें 12 महीने का वेतन नहीं दिया जा रहा है।

केवल दस महीने का वेतन दिया जा रहा है। 25 बच्चों से कम संख्या होने पर नौकरी से निकाला जा रहा है। प्रदेश में पिछले कुछ वर्षों में छह हजार सात सौ 40 वर्करों की छंटनी हो चुकी है। अब इनकी संख्या 21 हजार रह गई है। इस योजना में नब्बे प्रतिशत महिलाएं ही कार्य करती हैं। उन्हें प्रसूति अवकाश की सुविधा नहीं है।

मांग की कि 45वें श्रम सम्मेलन की सिफारिश अनुसार मिड-डे मील कर्मियों को सरकारी कर्मचारी घोषित किया जाए व नियमित किया जाए। न्यूनतम वेतन के आधार पर 8250 रुपये वेतन दिया जाए। ईपीएफ, मेडिकल, छुट्टियों आदि सुविधा दी जाए। रिटायरमेंट पर पेंशन व ग्रेच्युटी दी जाए। छह महीने के वेतन सहित प्रसूति अवकाश दिया जाए।

हिमाचल में मिड-डे मील के लिए 25 बच्चों की शर्त हटाई जाए। बारह महीने का वेतन दिया जाए। सीटू प्रदेशाध्यक्ष विजेंद्र मेहरा, बालकराम, रामप्रकाश, पुष्पा देवी, दिनेश कुमार, शकुंतला देवी, हेमा, हेमलता, जयवंती, सुनील, ध्यान चंद कालटा, सुरजीत, सुमित्रा, जगत राम, निर्मला, लता, आशा, कमला, विद्या चंपा, बिमला, इंद्रा, शांति, मीना, संतोष, मथरा, द्रोपता, कमला, चंद्रकांता आदि मौजूद रहे।

परिचालक से मारपीट और वर्दी फाड़ने पर छह माह का कारावास,

नालागढ़ के न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी ने एचआरटीसी के परिचालक के साथ मारपीट करने के मामले में एक आरोपी को छह माह का कारावास व 2 हजार रुपये जुर्माना लगाया है। सहायक जिला न्यायवादी गीतांजलि ने बताया कि वर्ष 2012 में एचआरटीसी की बस नालागढ़ से शिमला जा रही थी। इस बस में परिचालक रामलोक ड्यूटी पर थे।




जैसे ही वह छियाछी के पास पहुंचे तो वहां विनोद कुमार बस में चढ़ने लगे। उसी दौरान कुछ सवारियां उतर रही थीं। परिचालक रामलोक ने विनोद को कहा कि वह पहले सवारियों को उतरने दे, उसके बाद बस में चढ़े। इतने में विनोद कुमार भड़क गया और परिचालक के साथ झगड़ा करने लगा।

देखते ही देखते मारपीट पर उतर आया और उसकी वर्दी तक फाड़ दी। साथ ही उसने मारपीट की और परिचालक की टिकट काटने वाली मशीन भी तोड़ दी। परिचालक ने रामशहर थाने में विनोद के खिलाफ सरकारी कार्य में बाधा डालने का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज करवाया।

मामले की सुनवाई करते हुए न्यायिक दंडाधिकारी (प्रथम श्रेणी) जितेंद्र सैणी ने विनोद कुमार को धारा 353 के तहत छह माह का कारावास व 500 रुपये जुर्माना, 332 के तहत छह माह का कारावास व 500 रुपये जुर्माना, 506 के तहत छह माह का कारावास व 500 रुपये जुर्माना तथा 3 पीडीपी के तहत छह माह की कारावास व 500 रुपये जुर्माने की सजा सुनाई। सभी सजाएं एक साथ चलेंगी।

हिमाचल में स्टार्स योजना से बदलेगी शिक्षा क्षेत्र की तस्वीर, प्रदेश को मिलेगा 600 करोड़ का बजट,

शिक्षा में गुणवत्ता लाने को केंद्र सरकार की ओर से शुरू की गई स्टार्स योजना से हिमाचल में शिक्षा क्षेत्र की तस्वीर बदलेगी। भारत सरकार ने स्टार्स को स्ट्रेथनिंग टीचिंग लर्निंग एंड रिजल्ट फॉर स्टेट्स के नाम का दर्जा दिया है। योजना के लिए विश्व बैंक फंडिंग करेगा। हिमाचल को करीब 600 करोड़ का बजट मिलेगा। बीते बुधवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में इस योजना को मंजूरी दी गई है। हिमाचल को यह बजट 6 साल तक 100-100 करोड़ रुपये की 6 किस्तों में जारी होगा।

HP TOP 10 NEWS

स्टार्स योजना में शामिल किए गए देश के छह राज्यों में हिमाचल के अलावा राजस्थान, मध्यप्रदेश, केरल, ओडिशा और महाराष्ट्र को शामिल किया गया है। छह साल के लिए हर राज्य को 600 करोड़ का बजट दिया जाएगा। निजी स्कूलों की तर्ज पर सरकारी स्कूलों को सुविधाएं देने को केंद्र सरकार ने स्टार्स प्रोजेक्ट शुरू किया है।

शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि इस प्रोजेक्ट के तहत प्री प्राइमरी स्कूलों को मजबूत किया जाएगा। स्कूलों में बच्चों की संख्या बढ़ाने के लिए विशेष अभियान चलाए जाएंगे। सरकारी स्कूलों में कंप्यूटर शिक्षा पर जोर देते हुए अधिक से अधिक कंप्यूटर सिस्टम लगाए जाएंगे।

शिक्षकों के प्रशिक्षण केंद्रों को आधुनिक किया जाएगा। शिक्षक ट्रेनिंग में बदलाव किया जाएगा। एमआईएस डाटा एकत्र करने के लिए नए तरीके अपनाए जाएंगे। विभागीय अधिकारियों के अनुसार प्रोजेक्ट के तहत जारी हुई राशि का उपयोगिता प्रमाण पत्र देने के बाद ही अगली किस्त जमा होगी। यह प्रोजेक्ट प्रदेश में गुणात्मक शिक्षा देने में बहुत मददगार साबित होगा।

शिक्षक भर्ती में गड़बड़ी: महिला अभ्यर्थी ने योग में किया स्नातक, बना दिया गया भाषा अध्यापक

HP TOP 10 NEWS




प्रदेश शिक्षा विभाग में नियमों के विपरीत अपात्र अभ्यर्थियों की नियुक्तियों का मामला काफी गर्मा गया है। अब एक योग विषय में स्नातक महिला अभ्यर्थी को भाषा अध्यापक के पद पर नौकरी देने की बात सामने आई है। इसका खुलासा सूचना का अधिकार अधिनियम से ली जानकारी से हुआ है। शिक्षा विभाग ने आरटीआई में बताया कि महिला शिक्षक ने वर्ष 1996 में बैचलर ऑफ एजूकेशन इन योगा में डिप्लोमा किया है।

महिला को 2016-17 में भाषा अध्यापक पद पर नियुक्ति दी गई है। हमीरपुर जिले के एक स्कूल में सेवाएं दे रही महिला शिक्षक को इसी वर्ष 2020 में अनुबंध कार्यकाल पूरा होने पर नियमित किया गया है। शिकायतकर्ता ने प्रारंभिक शिक्षा विभाग से मामले में कार्रवाई की मांग उठाई है। वर्ष 2004-05 में बीएससी बीएड करने और वर्ष 2015-16 में हिंदी में स्नातकोत्तर करने वाले करीब 9 अभ्यर्थियों को प्रारंभिक शिक्षा विभाग ने 2017 में भर्ती एवं पदोन्नति नियमों के विपरीत नियुक्तियां दी हैं।

बीते माह अनुबंध पर तैनात सभी नौ भाषा अध्यापकों को स्क्रीनिंग कमेटी की आपत्ति के बावजूद नियमित किया गया। शिक्षा सचिवालय से निदेशक को मामले की जांच के निर्देश दिए गए हैं। इसके बाद प्रारंभिक शिक्षा विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। उधर, प्रारंभिक शिक्षा विभाग हमीरपुर के उपनिदेशक बलवंत कुमार नड्डा ने कहा कि उन्हें इस मामले की जानकारी नहीं है।

यह नियुक्तियां उनकी ज्वाइनिंग से पहले की हैं। कहा कि जिस योग डिप्लोमा धारक महिला को भाषा अध्यापक पद पर नियुक्त किया गया है, हो सकता हो कि उस दौरान बीएड की अनिवार्यता न रही हो। पहले हिंदी विषय में स्नातकोत्तर करने वाले भी भाषा अध्यापक पद के लिए पात्र माने जाते थे।

सैनिक स्कूलों में प्रवेश के लिए 20 अक्तूबर से करें ऑनलाइन आवेदन,

सैनिक स्कूलों में प्रवेश के लिए इस बार प्रवेश परीक्षा राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) लेगी। रक्षा मंत्रालय ने पहली बार परीक्षा की जिम्मेवारी एनटीए को दी है। इससे पहले देश के सैनिक स्कूलों में विद्यार्थियों के दाखिले को रक्षा मंत्रालय सैनिक स्कूल सोसायटी के माध्यम से प्रवेश परीक्षा लेता रहा है। इस बड़े बदलाव के बाद राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी ने अखिल भारतीय सैनिक स्कूल प्रवेश परीक्षा 2021 के लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे हैं।

20 अक्तूबर से 19 नवंबर के बीच ऑनलाइन आवेदन करना होगा। एजेंसी 10 जनवरी 2021 को देश के विभिन्न केंद्रों पर परीक्षा लेगी। परीक्षा का माध्यम पेन, पेपर, ओएमआर शीट आधारित होगा। इसमें बहु विकल्पीय प्रश्न होंगे। सैनिक स्कूल सुजानपुर में छात्राओं के लिए भी 10 सीटें आरक्षित हैं। सैनिक स्कूल सुजानपुर में पहली बार छात्राएं भी छात्रों के साथ शिक्षा ग्रहण करेंगी।

कक्षा छठी में प्रवेश के लिए विद्यार्थी की उम्र 31 मार्च 2021 को 10 से 12 वर्ष के बीच होनी चाहिए। नौवीं में दाखिले को उम्मीदवार की उम्र 31 मार्च 2021 को 13 से 15 वर्ष के बीच होनी चाहिए। प्रवेश के समय मान्यता प्राप्त स्कूल से आठवीं पास होनी चाहिए। अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों के लिए परीक्षा शुल्क 400, जबकि सामान्य वर्ग के लिए 550 रुपये निर्धारित किया गया है।

परीक्षा शुल्क का भुगतान क्रेडिट, डेबिट कार्ड, इंटरनेट बैंकिंग और पेटीएम से भी किया जा सकता है। सैनिक स्कूल सुजानपुर में छठी कक्षा के लिए 80, और नौवीं कक्षा के लिए 10 सीटें निर्धारित हैं। छठी में अधिक सीटें निर्धारित करने के पीछे रक्षा मंत्रालय का तर्क है कि इस कक्षा से विद्यार्थियों का आधार मजबूत होता है। वर्तमान में सुजानपुर में 520 विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं।

चंबा के विधायक ने लगाई कर्मचारियों की क्लास, मनमानी शर्तें थोपने पर की जवाबतलबी,

HP TOP 10 NEWS

चंबा के विधायक पवन नैयर ने गुरुवार को डीसी ऑफिस के प्लानिंग सेल व डीआरडीए ऑफिस का दौरा कर अधिकारियों व कर्मचारियों की जमकर क्लास ली। उन्होंने प्लानिंग सेल की ओर से विधायक निधि के तहत मंजूर योजनाओं को लेकर मनमानी शर्तें थोपने पर जवाब तलबी की। इस दौरान जिला योजना अधिकारी इसकी कोई ठोस वजह नहीं बता पाए। इस पर विधायक ने स्पष्ट किया कि अधिकारी अपने कामकाज के रवैया में पारदर्शिता बरतें और खुद को सरकार से ऊपर न समझे।







इसके बाद विधायक ने डीआरडीए ऑफिस पहुंचकर खजियार में दस लाख से निर्मित शोरूम निर्माण कार्य को लेकर अपनाई गई टेंडर प्रक्रिया के बारे में भी जांच पड़ताल की। विधायक की पूछताछ के दौरान मौजूद अधिकारी व कर्मचारी अपना पक्ष बेहतर तरीके से नहीं रख पाए। इस दौरान विधायक ने इशारों ही इशारों में जिला के एक बड़े अधिकारी को भी निशाने पर लिया।

 

शिक्षकों के माइक्रो प्लान पर निर्भर करेगा हिमाचल में स्कूलों का खुलना

हिमाचल में स्कूलों का खुलना शिक्षकों के माइक्रो प्लान पर निर्भर करेगा। शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा है कि स्कूल खोलने के लिए अभिभावकों की राय भी जरूरी है। सरकार पर सब कुछ छोड़ने की मानसिकता गलत है। ऐसे में शुक्रवार से सरकारी स्कूलों में शुरू होने वाली ई पीटीएम में सात लाख अभिभावकों की शिक्षकों द्वारा इस बाबत नब्ज टटोली जाएगी। इसके अलावा स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या और कमरों की स्थिति के अनुसार शिक्षक अपना प्लान बनाएंगे।

इस प्लान के आधार पर शिक्षा विभाग आगामी दिनों में स्कूल खोलने का प्रस्ताव मंत्रिमंडल की बैठक में लेकर जाएगा। गुरुवार को यू ट्यूब के माध्यम से शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने शिक्षकों, विद्यार्थियों और अभिभावकों के साथ संवाद किया। इस दौरान अधिकांश बच्चे स्कूल खोलने के हक में दिखे। कुछ अभिभावकों ने भी नियमित कक्षाएं शुरू करने की बात कही जबकि कुछ अभिभावकों ने कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने का हवाला देते हुए स्कूल बंद रखने और ऑनलाइन पढ़ाई को ही जारी रखने की वकालत की।




कुछ अभिभावकों ने शिक्षा मंत्री से नौवीं से बारहवीं कक्षा तक विज्ञान संकाय के बच्चों को स्कूल बुलाने की बात भी कही। इस दौरान शिक्षा मंत्री ने कहा कि हर बात को सरकार पर छोड़ना सही नहीं है। अगर कुछ गलत हुआ तो सरकार जिम्मेवार और सही रहा तो अभिभावक सही। ऐसी मानसिकता सही नहीं है। सरकार पर सब कुछ छोड़ना गलत है। अपनी जिम्मेवारी से नहीं भागना चाहिए। मिलकर सभी को फैसला लेना है।

अच्छा और बुरा होने की स्थिति में सभी बराबर के हिस्सेदार बनेंगे। उन्होंने कहा कि दुनिया में ऐसा विकट समय किसी ने भी आज से पहले नहीं देखा। सारी दुनिया कुछ पल के लिए रूक गई है। अब इसके साथ जीवन जीने का प्रयास करना है। तकनीक का इस्तेमाल करने के लिए कोरोना ने मजबूर किया। उन्होंने कहा कि सभी की राय लेने के बाद स्कूल खोलने का फैसला कैबिनेट बैठक में लिया जाएगा।

स्कूल खुलने पर कक्षाओं के भीतर प्रतिज्ञा लेने की अपील

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में स्कूल खुलने पर प्रार्थना सभाएं नहीं होगी। ऐसे में कक्षाओं में जाकर दो मिनट की प्रतिज्ञा लेने की शुरूआत की जाएगी। इसमें शारीरिक दूरी रखने, फेस मास्क पहनने। हर पीरियड के बाद हाथ बीस सेकेंड के लिए धोने, हाथों को सेनेटाइज करने, स्कूल से सीधे घर जाने, घर-परिवार और आसपड़ोस को जागरूक करने, स्कूल से घर पहुंचते ही पहले अपनी साफ सफाई करने और परिजनों से सीधे जाकर ना मिलने की प्रतिज्ञा रोजाना ली जाएगी।

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस अभी समाप्त नहीं हुआ है। वैक्सीन अभी आई नहीं है। ऐसे में एहतियात बरतने की बहुत अधिक जरूरत है। इसके लिए ही प्रतिज्ञा लेने का फैसला लिया गया है। उन्होंने कहा कि इस बाबत जल्द ही शिक्षा निदेशालय की ओर से सभी स्कूलों को निर्देश जारी किए जाएंगे।

200 शिक्षकों के रिर्सोस ग्रुप के साथ अलग से होगा संवाद

शिक्षा मंत्री ने कहा कि ऑनलाइन पढ़ाई के लिए शिक्षण सामग्री तैयार करने वाले करीब 200 शिक्षकों के रिर्सोस ग्रुप के साथ वे जल्द ही अलग से संवाद करेंगे। इन शिक्षकों ने कोरोना संकट के बीच बच्चों की पढ़ाई को लगातार जारी रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने स्कूलों में आ रहे सभी शिक्षकों और गैर शिक्षकों को भी सरकार की ओर से तय किए गए नियमों का पालन करने की अपील की है।

मशीनरी स्टोर व वर्कशॉप में भड़की आग, लाखों की संपत्ति जलकर राख

रोहड़ू में एक व्यापारी की वर्कशॉप व स्टोर में आग लगने से लाखों की संपत्ति स्वाह हो गई। अग्निशमन दल द्वारा समय पर पहुंचकर आग पर काबू पाया गया वरना रोहड़ू बाजार का आधा क्षेत्र आग में स्वाह हो जाता। जानकारी के अनुसार दिन के समय पीएनबी के साथ ही महेंद्रू मशीनरी स्टोर के नीचे ढंकार में घासनी व झाडिय़ों में अचानक आग लग गई।




देखते ही देखते आग ने महेंद्रूभवन की निचली मंजिल में स्थित मशीनरी स्टोर व वर्कशॉप को अपनी चपेट में ले लिया। आग से वर्कशॉप में पावर सप्लायर, पावर टिल्लर, 2 लोडर और अन्य सामान पूरी तरह जलकर नष्ट हो गया।

अग्निशमन दल द्वारा अग्निशमन केंद्र प्रभारी लायक राम शर्मा के नेतृत्व में आग स्थल पर फायर ब्रिगेड की 3 गाडिय़ों समेत पहुंचने से समय रहते आग पर काबू पाया गया, जिससे रोहड़ू का आधा बाजार जलने से बच गया। अग्निशमन केंद्र रोहड़ू प्रभारी लायक राम शर्मा ने कहा कि अग्निशमन विभाग की 3 गाडिय़ों व अग्निशमन कर्मियों द्वारा कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया। उन्होंने कहा कि आग लगने का कारण अज्ञात है। आग से लगभग 12 लाख रुपए की संपत्ति नष्ट होने का अनुमान है।

बल्क ड्रग पार्क को लेकर केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा से मिले अनुराग ठाकुर

हिमाचल प्रदेश के लिए बल्क ड्रग फार्मा पार्क उपलब्ध करवाने के सिलसिले में केंद्रीय वित्त एवं कार्पोरेट मामले राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री सदानंद गौड़ा से मुलाकात की है। उन्होंने इस दौरान हमीरपुर संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत ऊना जिला के हरोली ब्लॉक में बल्क ड्रग पार्क को स्थापित करने की वकालत की है।

उल्लेखनीय है कि इस सिलसिले में राज्य सरकार की तरफ से आवेदन कर दिया गया है। आवेदन करने के बाद प्रदेश सरकार और केंद्रीय वित्त एवं कार्पाेरेट मामले राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर अपने-अपने तरीके से पैरवी कर रहे हैं। पहले इस पार्क को खोलने के लिए नालागढ़ का नाम भी सामने आया था लेकिन अनुराग ठाकुर इसे अपने संसदीय क्षेत्र में खोलने के लिए पैरवी कर रहे हैं। इसके पीछे यह तर्क दिया गया है कि ऊना जिला के हरोली में पार्क के लिए बेहतर जमीन एवं सुविधाएं उपलब्ध हैं। लिहाजा ऐसे में इस पार्क को यहां पर ही स्थापित किया जाए।

इस पार्क के स्वीकृत होने पर प्रदेश में 1000 करोड़ रुपए का निवेश होगा। इसके लिए हिमाचल प्रदेश का दावा इसलिए भी मजबूत है क्योंकि यह एशिया का प्रमुख फार्मा हब माना जाता है। पहले इसके लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि 27 सितम्बर तय की गई थी जिसे कई राज्य सरकारों के आग्रह के बाद 15 अक्तूबर तक बढ़ाने का निर्णय लिया गया। बल्क ड्रग फार्मा पार्क के लिए हिमाचल प्रदेश की स्पर्धा आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड, गुजरात, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश और राजस्थान जैसे राज्यों से है।

हिमाचल में कोरोना से 5 और लोगों की मौत, पूर्व संसदीय सचिव सहित 285 नए मरीज

हिमाचल प्रदेश में कोरोना का कहर जारी है। वीरवार को प्रदेश में जहां 5 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है तो वहीं 285 नए मामले सामने आए हैं। कोरोना से जान गंवाने वालों में कुल्लू जिला के अखाड़ा बाजार की 80 वर्षीय महिला, करजां मनाली की 69 वर्षीय महिला, लाहौल के तिंदी की 68 वर्षीय महिला, कांगड़ा जिला के बैजनाथ के मत्याल का 74 वर्षीय व्यक्ति व बिलासपुर जिला के बाड़ी गांव का 61 व्यक्ति शामिल है।




वहीं प्रदेश में पूर्व संसदीय सचिव ऊर्मिला ठाकुर सहित 285 और लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। संक्रमितों में मंडी के 63, शिमला के 61, कांगड़ा के 26, कुल्लू व सोलन के 22, हमीरपुर के 19, लाहौल-स्पीति के18, सिरमौर के 16, बिलासपुर व ऊना के 13-13 व चम्बा के 12 लोग शामिल हैं। इसके अलावा आज 132 कोरोना मरीज ठीक होकर घर लौट गए हैं। इनमें सोलन के 45, सिरमौर के 29, बिलासपुर के 13, ऊना के 12, मंडी व शिमला के 11, चम्बा के 8, कुल्लू के 2 व किन्नौर का 1 व्यक्ति शामिल है।

शिमला में कोरोना के 61 मामले आए हैं। इनमें एक पत्रकार भी शामिल है। संक्रमितों में संजौली के 5, खलीनी के 5, कसुम्पटी के 18, भट्ठाकुफर के 2, पंथाघाटी के 2, घणाहट्टी के 2, बीसीएस का 1, चौड़ा मैदान का 1, आईजीएमसी का 1, अन्नाडेल का 1, न्यू शिमला के 2, मशोबरा का 1, एमएच का 1, जुब्बल कोटखाई का 1, कुमारसैन के 3, टिक्कर का 1, रामपुर के 6, रोहड़ू के 2, सोलन के 2, बिलासपुर का 1 और सिरमौर के 2 मरीज शामिल हैं।

सोलन जिला में कोरोना के 22 नए मामले आए हैं। इनमें सोलन से 9, बद्दी से 6, नालागढ़ से 3, परवाणु से 3, एमएमयू से 1 सैम्पल पॉजिटिव आया है। इनमें आईएलआई के 8, डायरैक्ट कॉन्टैक्ट के 13 व एक फ्रंट लाइन वर्कर शामिल है। इनमें 16 पुरुष और 6 महिलाएं शामिल हैं। लाहौल-स्पीति जिला में 18 नए मामले सामने आए है। पॉजिटिव पाए गए 18 मामलों में बीआरओ उदयपुर के 12, गोंदला के 3, केलांग के 2 व एक मामला हिंसा गांव का है।




हमीरपुर जिला में 19 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें हमीरपुर शहर के हीरानगर की 63 वर्षीय महिला, अढ़ाई वर्षीय बच्ची, 36 वर्षीय महिला व 30 वर्षीय महिला, हमीरपुर शहर के ही वार्ड नंबर-1 के 36 वर्षीय व्यक्ति और 9 वर्षीय लड़की, नादौन तहसील के कलूर क्षेत्र के गांव गरनी का 32 वर्षीय व्यक्ति, बड़सर के बाहिना क्षेत्र के गांव कोटलू का 37 वर्षीय व्यक्ति और मेडिकल कॉलेज हमीरपुर का 3 व्यक्ति और भोरंज के साथ लगते गांव बस्सी में कार्यरत 38 वर्षीय महिला, 56 वर्षीय व्यक्ति और 55-55 वर्ष के 3 अन्य व्यक्ति शामिल हैं।

बिलासपुर जिला में 13 नए मामले सामने आए हैं। इनमें सदर थाना से 29 वर्षीय व 31 वर्षीय महिला पुलिस कर्मी और सिटी पुलिस लाइन से 35 वर्षीय पुलिस कर्मी, सदर उपमंडल के बरमाणा गांव से 44 वर्षीय व्यक्ति, लखनपुर से 63 वर्षीय बुजुर्ग व्यक्ति, जमथल क्षेत्र से 43 वर्षीय महिला, खतेर गांव से 57 वर्षीय व्यक्ति, बिलासपुर शहर के रौड़ा सैक्टर से 58 वर्र्र्र्षीय व्यक्ति, जरेख गांव से 42 वर्षीय व्यक्ति, घुमारवीं उपंमडल के तहत जरोड़ा गांव से 16 वर्षीय युवक, 22 वर्र्षीय युवक व 54 वर्षीय व्यक्ति और हम्बोट गांव से 44 वर्षीय व्यक्ति संक्रमित पाए गए हैं।

Join facebook page

Latest Himachal Pradesh News in Hindi, हिमाचल न्यूज़

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *