January 24, 2021

Coronavirus बड़ा झटका: ‘कोविडशील्ड’ के गंभीर साइड-इफेक्ट का दावा, पांच करोड़ मुआवजा मांगा

Coronavirus: चेन्नई में हुए कोविडशील्ड वैक्सीन के ट्रायल में हिस्सा लेने वाले एक व्यक्ति ने खुराक लेने के बाद गंभीर साइड इफेक्ट सामने आने की बात कही है। 40 वर्षीय व्यक्ति ने कहा है कि वैक्सीन की खुराक लेने के बाद गंभीर साइड इफेक्ट दिखे हैं,

KovidShield

जिसमें वर्चुअल न्यूरोलॉजिकल ब्रेकडाउन जैसी समस्या भी शामिल है। व्यक्ति ने पांच करोड़ रुपये के मुआवजे की मांग की है। उल्लेखनीय है कि इस वैक्सीन को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और फार्मा कंपनी एस्ट्राजेनेका ने तैयार किया है। वहीं, ट्रायल कराने वाले सीरम इंस्टीट्यूट ने इन दावों को नकार दिया है।

Coronavirus
Coronavirus

व्यक्ति ने सीरम इंस्टीट्यूट और अन्य को भेजे गए एक कानूनी नोटिस में मुआवजे से साथ ट्रायल पर रोक लगाने की मांग भी की है। व्यक्ति ने आरोप लगाया है कि संभावित वैक्सीन सुरक्षित नहीं है। इसके साथ ही उसने वैक्सीन की जांच, उत्पादन और वितरण को रद्द करने की मांग भी की है। यह नोटिस बता दें कि इस वैक्सीन का भारत में ट्रायल पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया करवा रही है। सीरम इंस्टीट्यूट के साथ यह नोटिस आईसीएमआर और श्री रामचंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ हायर एजुकेशन रिसर्च को भी भेजा गया है।

Coronavirus
Coronavirus vaccine

व्यक्ति ने आरोप लगाया कि टीका लगवाने के बाद उसे तीव्र मस्तिष्क विकृति, मस्तिष्क को प्रभावित करने वाली क्षति अथवा रोग का सामना करना पड़ा है और सभी जांचों से पुष्टि हुई है कि उसकी सेहत को टीका परीक्षण से नुकसान हुआ है। इस व्यक्ति को एक अक्तूबर को टीका लगाया गया था

व्यक्ति ने आरोप लगाया है कि वैक्सीन की खुराक लेने के बाद उसे दिमाग को प्रभावित करने वाली समस्या एक्यूट एंसेफेलोपैथी का सामना करना पड़ा। व्यक्ति का कहना है कि सभी जांचों से यह साफ हो गया है कि उसके स्वास्थ्य में आई समस्याओं का कारण वैक्सीन ही है।

Coronavirus

नोटिस में कहा गया है कि वैक्सीन लेने के बाद व्यक्ति ट्रॉमा में चला गया, जिससे साफ होता है कि वैक्सीन सुरक्षित नहीं है और सभी हिस्सेदार उन प्रभावों को छिपाने की कोशिश कर रहे हैं जो उक्त व्यक्ति पर दिखे हैं।

सीरम इंस्टीट्यूट ने दिया ये जवाब

वहीं, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने इस दावे को लेकर रहा है कि उसे व्यक्ति की चिकित्सकीय स्थिति को लेकर सहानुभूति है, लेकिन उसके स्वास्थ्य और वैक्सीन ट्रायल के बीच कोई संबंध नहीं है। वह अपनी स्वास्थ्य समस्याओं के लिए ट्रायल पर गलत आरोप लगा रहा है।

Coronavirus
Covid 19

संस्थान ने कहा कि यह दावा गलत है क्योंकि वॉलंटियर को स्पष्ट रूप से मेडिकल टीम की ओर से जानकारी दी गई थी कि जिन समस्याओं का उसने सामना किया वह वैक्सीन ट्रायल से अलग थीं। ये जानकारी देने के बाद भी उसने सार्वजनिक मंच पर जाना और कंपनी की प्रतिष्ठा को धूमिल करना चुना है।

सीरम इंस्टीट्यूट ने बयान में कहा कि यह स्पष्ट है कि इस तरह की दुर्भावनापूर्ण जानकारी फैलाने के पीछे का उद्देश्य एक अजीबोगरीब मकसद है। हम इसे लेकर 100 करोड़ रुपये का दावा ठोकेंगे और इस तरह के गलत और आधारहीन दावों से खुद का बचाव करेंगे।

KovidShield

ट्रायल में हाल ही में सामने आई थी एक और गलती
बीते दिनों भी इस वैक्सीन के ट्रायल में एक गलती का पता चला था। हालांकि, यह गलती एक तरह से बेहतर ही साबित हुई थी।

दरअसल, ट्रायल में जिन लोगों को वैक्सीन की कम खुराक दी गई थी, उन पर 90 फीसदी असर हुआ था, जबकि जिन्हें दो पूरी खुराक दी गई, उनमें वैक्सीन 62 फीसदी ही प्रभावी पाई गई थी। इसके बाद पूर्व में वैक्सीन की प्रभाविता के बारे में किए गए दावों पर भी सवाल उठे थे। एस्ट्राजेनेका ने बीते बुधवार को एक बयान में इसकी जानकारी दी थी।

HPTET : एक बार पास टेट को उम्र भर मान्य करने के लिए कैबिनेट में जाएगा प्रस्ताव

Join facebook page

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © Bolta Himachal 2020 | All rights reserved. | Newsphere by AF themes.